• पहाड़ों में बहुत कम बच्चों की हो रही है ऑनलाइन कलास
  • कमजोर नेटवर्क, लगातार बिजली की आंख मिचैली बन रही बाधा
  • कई गरीब तबके बच्चे स्मार्ट फोन खरीदने में नहीं हैं समक्ष

देहरादून। कोरोना संक्रमण और कम होने पर प्रदेश सरकार 50 प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूलों को खोलने की अनुमति दे सकती है। सरकार ने सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई के आदेश तो जारी कर दिए हैं। लेकिन, कुछ बच्चे ही ऑनलाइन कलास ज्वाॅइन कर पाते हैं। खासकर पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार बिजली की आंख मिचैली, नेटवर्क की दिक्कत बनी रहती है। जिस कारण बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई नहीं हो पा रही है। कई अभिभावक एंड्रोइड फोन खरीदने में सक्षम नहीं हैं। कुछ अभिभावक ऐसे भी जिनके दो-तीन बच्चे पढ़ने वाले हैं। इतने फोन लेना उनकी क्षमता से बाहर है। हालांकि शिक्षकों को अभी स्कूल जाकर ऑनलाइन पढ़ाने की अनुमति दी गई है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे का कहना है कि स्कूलों को खोलने पर विचार किया जा रहा है। जैसे-जैसे कोरोना के मामले और कम हो रहे हैं, उसके बाद अब स्कूलों में बच्चों को भी आने की छूट के निर्देश दिए जा सकते हैं। शिक्षा विभाग इसको लेकर तैयारी कर रहा है। पहले चरण में कक्षा 6 से बड़ी कक्षाओं के छात्र-छात्राओं को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूल आने की अनुमति दी जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here