नई दिल्ली। 500 रुपये के नोट को लेकर सोशल मीडिया पर ऐसी अफवाह फैली कि आरबीआई को भी सामने आना पड़ा। आरबीआई ने ‘स्टार’ निशान (*) वाले नोट की वैधता को लेकर सोशल मीडिया पर जताई जा रही तमाम आशंकाओं को खारिज किया है। इस मामले में आरबीआई ने कहा है कि आपके पास अगर ऐसा कोई बैंक नोट आया है, जिसमें सीरीज के बीच स्टार लगा है, तो ये नोट भी किसी भी दूसरे नोट की तरह वैध है।

आरबीआई ने जारी बयान में कहा कि गलत छपाई वाले नोट की जगह जारी किए जाने वाले नोट पर अंकित संख्या वाले पैनल में स्टार निशान जोड़ा गया है। इस स्टार निशान को देख कर कुछ लोगों ने इसे दूसरे 500 रुपये के नोट से तुलना करते हुए नकली या अवैध बता दिया, जिसके बाद आरबीआई ने संज्ञान लेते हुए जानकारी दी है। रिजर्व बैंक ने बताया कि सीरियल नंबर वाले नोटों की गड्डी में गलत ढंग से छपे नोट के बदले स्टार निशान वाले नोट जारी किए जाते हैं। स्टार का यह निशान नोट के नंबर और उसके पहले दर्ज होने वाले अक्षरों के बीच में लगाया जाता है।

बयान में कहा गया है कि आरबीआई ने क्रमबद्ध संख्या वाले सौ नोटों के बंडल में छपाई की गलती वाले नोटों के स्‍थान पर उसी नंबर के स्‍टार निशान वाले नोटों की नंबरिंग प्रणाली को अपनाया। आरबीआई के अनुसार, अगस्त 2006 तक भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए गए नए बैंक नोटों को क्रमबद्ध तरीके से क्रमांकित किया गया था। इनमें से प्रत्येक नोट में अंकों और अक्षरों से युक्त एक उपसर्ग के साथ एक विशिष्ट क्रमांक होता है। बैंक नोट 100 के बंडल में जारी किए जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here