रेलवे नेटवर्क से जुड़ेगी चारधाम यात्रा : रेल मंत्री

बदलेगी उत्तराखंड की तस्वीर

  • चारधाम रेल प्रोजेक्ट पर रेल मंत्री ने किया ट्वीट, त्रिवेंद्र ने दिया धन्यवाद
  • पीयूष गोयल बोले, प्रधानमंत्री मोदी का है ख्वाब कि सरहद तक पहुंचे रेल

देहरादून/दिल्ली। ‘अब चारधाम तक आसान होगी करोड़ों श्रद्धालुओं की पहुंच’। इस शीर्षक के साथ रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार रात को एक वीडियो ट्वीटर पर पोस्ट किया। सोशल मीडिया पर वायरल इस ट्वीट के माध्यम से रेल मंत्री ने कहा कि करोड़ों श्रद्धालुओं के लिए चारधाम यात्रा आसान हो जाएगी। ऐसा इसलिए है कि रेल मंत्रालय चारधाम रेल परियोजना का निर्माण करने जा रहा है।
पीयूष गोयल के इस ट्वीट पर मुख्यमंत्री ने त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन्हें फोन पर धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने ट्वीट देखा। उसके बाद रात को ही रेल मंत्री को धन्यवाद किया कि उन्हें गंगोत्री, यमुनोत्री, बदरीनाथ और केदारनाथ धाम को रेल परियोजना से जोड़ने का विचार किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री का भी ख्वाब है कि सीमा तक रेल पहुंचे। उसे आगे बढ़ाने का काम रेल मंत्रालय ने किया है। हमें राज्य में अवस्थापना सुविधाएं चाहिए। परियोजना के निर्माण से उत्तराखंड को इसका लाभ मिलेगा। चारधाम को ऑलवेदर रोड से जोड़ने के बाद अब केंद्र सरकार का फोकस चारों धामों को रेल नेटवर्क से जोड़ने की है। ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल परियोजना का कार्य आरंभ हो चुका है। इस परियोजना को विस्तार देकर इसे बदरीनाथ और केदारनाथ तक बढ़ाया जाएगा।
गौरतलब है कि प्रस्तावित चारधाम रेल परियोजना 327 किमी की है। डोईवाला से गंगोत्री और देहरादून से उत्तरकाशी को रेल लाइन से जोड़ने की इस योजना का पायलट सर्वे हो चुका है। परियोजना पर 43 हजार करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है। इसके तहत 21 नए स्टेशन, 61 सुरंग, 59 पुल बनाए जाने प्रस्तावित हैं। रेल लाइन का 279 किमी हिस्सा सुरंगों में होगा। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here