उत्तराखंड : अब सचिवालय के सात अनुभागों के ‘मुखिया’ की बारी!

ऐतिहासिक बदलाव की बयार

  • मुख्यमंत्री के आदेश पर सचिवालय कर्मियों के अनुभागों में बड़ा फेरबदल, 68 कर्मियों के अनुभाग बदले
  • एक ही झटके में आरओ, एआरओ, कंप्यूटर आपरेटर और चपरासियों तक में किया बदलाव 

देहरादून। उत्तराखंड सचिवालय प्रशासन विभाग ने बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के आदेश पर अमल करते हुए 68 कर्मियों के अनुभागों में फेरबदल कर दिया। सीएम के आदेशों के क्रम में सचिवालय प्रशासन ने 39 समीक्षा अधिकारियों, सहायक समीक्षा अधिकारियों, कंप्यूटर आपरेटरों और 29 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का दूसरे अनुभागों में तबादला किया है।यह क्रम अभी थमा नहीं है। इसके बाद तबादलों की दूसरी खेप का नंबर है। सूत्रों के अनुसार शासन ने अब लोनिवि, आबकारी, खनन, पेयजल, सिंचाई, आवास समेत सात अनुभागों के अनुभाग अधिकारियों को हटाने की सूची तैयार की है। ये आदेश भी सोमवार तक जारी हो जाने की खबर है। इससे सचिवालय कर्मियों में हड़कंप मचा है।
गौरतलब है कि फाइलों को दबाने और उनकी सुस्त रफ्तार से नाराज मुख्यमंत्री ने सचिव स्तर तक के अधिकारियों की बैठक में खुलकर नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने ताकीद किया था कि सचिवालय में तीन साल की निर्धारित अवधि पूरी कर चुके कर्मचारियों की पहचान हो और उन्हें तत्काल प्रभाव से बदला जाए।
इस क्रम में सचिवालय प्रशासन ने शुक्रवार को सात अनुभागों के कर्मियों को बदलने के आदेश जारी कर दिए। इनमें डेढ़ दर्जन अनुभागों के समीक्षा अधिकारी से लेकर चपरासी तक कुल 68 कर्मियों की कुर्सियां हिली हैं। प्रभारी सचिव सचिवालय प्रशासन भूपाल सिंह मनराल ने इस संबंध में आदेश किए। उत्तराखंड सचिवालय के इतिहास में पहली बार इतने व्यापक पैमाने पर अनुभागों से कर्मचारियों को बदला गया है। इससे पूर्व लोनिवि अनुभाग एक में फाइल लंबित रहने को लेकर अनुभाग अधिकारी से लेकर चपरासी तक को बदल दिया गया था। 
सिंचाई एक, उद्यान व रेशम, सिंचाई दो, नियोजन एक, गृह एक, लघु सिंचाई, समाज कल्याण चार, औद्योगिक विकास खनन एक, कार्मिक एवं सतर्कता, अल्पसंख्यक कल्याण, परिवहन, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, शहरी विकास, आबकारी, सहकारिता, पेयजल, पंचायतीराज, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, विद्यालयी शिक्षा, मुख्य सचिव कार्यालय, लोनिवि, संस्कृति एवं धर्मस्व,  मत्स्य, महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास, न्याय अनुभाग से अधिकारी और कर्मचारी हटाए गए हैं।
इसी क्रम में प्रवीण चंद्र को उद्यान एवं रेशम, जयपाल सिंह को सिंचाई एक, आशीष कुमार मिश्र को नियोजन एक, जयपाल सिंह चौहान को सिंचाई दो, मगन चंद्र राणा को गृह दो, रणवीर सिंह को सिंचाई दो, संजीव रावत को समाज कल्याण चार, मधु बिष्ट को लघु सिंचाई, विनोद बर्त्वाल को कार्मिक तीन, बिशन सिंह सोनाल को लोनिवि दो, राजीव नेगी को खनन एक, बिंदु गुंज्याल को चिकित्सा शिक्षा एक, प्रकाश चंद भट्ट को परिवहन एक, अनुपमा नौटियाल को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, विजय सिंह तड़ियाल को शहरी विकास एक, सावित्री पुंडीर को औद्योगिक विकास अनुभाग दो, आशुतोष कपरवाण को सहकारिता, गन्ना व चीनी अनुभाग दो,  राकेश कोठियाल आबकारी, वीरेंद्र सिंह चौहान पंचायतीराज दो, जतिन कुमार झा पेयजल एक,  अनिल कुमार थपलियाल विद्यालयी शिक्षा दो, यशवंत सिंह पेयजल अनुभाग दो, गजेंद्र प्रसाद पंत अल्पसंख्यक कल्याण व दुर्गा प्रसाद चंदोला सचिवालय प्रवेश पत्र कार्यालय में तैनाती मिली है। अनुभागों से 13 सहायक समीक्षा अधिकारी व दो कंप्यूटर आपरेटर हटाए गए। उनके अलावा सचिवालय परिचारक, होमगार्ड, पीआरडी कार्मिकों को भी अनुभागों से हटाकर दूसरे अनुभागों में तैनात किया गया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here