हरिद्वार में भी सुर्खियों में बने रहे गोल्डन बाबा!

हरिद्वार। कभी जूना अखाड़े के श्रीमहंत रहे गोल्डन बाबा उर्फ बिट्टू बिजली वाला ने दिल्ली में अपनी नश्वर देह त्याग दी, लेकिन हरिद्वार में भी वह सुर्खियों में बने रहे। गोल्डन बाबा अपने क्रियाकलापों से यहां हमेशा ही चर्चाओं में रहते थे।
हरिद्वार में किसी न किसी विवाद से गोल्डन बाबा का नाम जुड़ता रहता था। अपने पूरे शरीर पर सोने के जेवर पहनकर रहने वालेे गोल्डन बाबा लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करते थे। अब उनके निधन की खबर मिलने के बाद उनके अनुयायी गमगीन हैं। दिल्ली के हिस्ट्रीशीटर रहे बिट्टू बिजली वाला ने जब संन्यास लिया तो अपनी नई पहचान गोल्डन बाबा के तौर पर बनाई।
हरिद्वार से हर वर्ष कांवड़ यात्रा के दौरान जल लेकर दिल्ली रवाना होने पर गोल्डन बाबा का जत्था आकर्षण का केंद्र बना रहता था। बाबा का नाम हरिद्वार पुलिस की डायरी में भी कई बार दर्ज हुआ। कभी बिना अनुमति जुलूस निकालने को लेकर बाबा के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई तो कभी कोई दूसरे प्रकरण में नाम जुड़ता रहा। 
जूना अखाड़े से भी उनकी तनातनी हुई। संतों ने एक दूसरे पर गंभीर आरोप मढ़े तो गोल्डन बाबा की अखाड़े से विदाई कर दी गई। बिल्वकेश्वर कॉलोनी में बाबा की कोठी को लेकर भी विवाद चलता रहा। दिल्ली के एक सिख परिवार ने गोल्डन बाबा पर बैनामा करने के बाद भी कोठी पर काबिज होने का आरोप जड़ते हुए पुलिस से शिकायत की थी, लेकिन कोठी पर बाबा का ही कब्जा बना रहा। बुधवार को जब बाबा के निधन की खबर यहां पहुंची तो हर किसी की जुबान पर यह बात ही छाई रही।
ताजा मामले में नैनीताल में लेकब्रिज चुंगी पर भी गोल्डन बाबा और टोलकर्मी का टोल को लेकर विवाद हो गया था। विवाद के चलते हाईवे पर करीब एक घंटे जाम लगा रहा। गोल्डन बाबा ने चुंगी कर्मी पर गाली गलौच, अभद्र व्यवहार और गाड़ी का शीशा तोड़ने का आरोप लगाया था। इस दौरान मौके पर उन्हें देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था। जूना अखाड़े को लेकर दिए गए एक बयान के बाद भी वे सुर्खियों में रहे थे। गोल्डन बाबा ने कहा था कि जूना अखाड़ा बाल संन्यासियों के यौन शोषण का अड्डा है। उन्होंने कहा था कि यदि ईमानदारी से इस पूरे प्रकरण की जांच की जाए तो यह आसाराम और राम रहीम प्रकरण से भी बड़ा मामला निकलेगा। उनके इस बयान से संत जगत में हंगामा मच गया था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here