उत्तराखंड: इधर हुई संतान…उधर छिन गई ग्राम प्रधान की कुर्सी, जानिए पूरा मामला

देहरादून। राजधानी देहरादून से एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां तीसरी संतान होने पर ग्राम प्रधान को निलंबित कर दिया गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक, 11 अप्रैल 2023 को डोईवाला ब्लॉक की प्रतीतनगर ग्राम सभा की रहने वाली बबीता कमल ने राज्य निर्वाचन आयोग, सचिव पंचायती राज और जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र लिखकर जानकारी दी गई कि ग्राम प्रधान अनिल कुमार पिवाल की तीन संतान हैं। इसी के साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि साल 2019 के पंचायत चुनाव में उनकी ओर से झूठा शपथ पत्र दिया गया, जिसमें सिर्फ एक संतान होने की बात की गई थी जबकि उनकी दो संतानें थीं। चुनाव के बाद वह प्रधान निर्वाचित हुए।

प्रधान निर्वाचित होने के बाद 10 मार्च 2022 को अनिल कुमार की तीसरी संतान हुई। शिकायत के बाद पंचायत राज अधिकारी के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई। टीम ने पूरे मामले की जांच शुरू की गई थी और जांच में सही पाए जाने पर ग्राम प्रधान को निलंबित कर दिया गया है।

जिलाधिकारी सोनिका ने बताया कि ग्राम पंचायत प्रतीतनगर के प्रधान अनिल कुमार पिवाल की तीन संतान होने के मामले में जो जांच चल रही थी, वह पूरी हो गई है। जांच रिपोर्ट के आधार पर प्रथम दृष्टया ग्राम प्रधान को दोषी पाया गया है। जांच के दौरान उनकी ओर से दिए गए जवाब संतोषजनक नहीं थे। जिसके आधार पर ग्राम प्रधान को एक जुलाई को पद से निलंबित कर दिया गया है। एक जांच कमेटी गठित कर फाइनल जांच की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here