उत्तराखंड : किशोरी की जिद पूरी करने में छात्रवृत्ति घोटाला खोलने वाले लांबा की गई जान!

हरिद्वार। उत्तराखंड में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के छात्रवृत्ति घोटाले का पर्दाफाश करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता पंकज लांबा की शुक्रवार देर रात एक किशोरी की जिद पूरी करने के चक्कर में खुद की राइफल से गोली लगने से मौत हो गई।
घटना हरिद्वार की रानीपुर कोतवाली के सुमन नगर क्षेत्र की है। पुलिस के अनुसार 46 वर्षीय पंकज लांबा शिवालिक नगर में किराये पर रहते थे। शुक्रवार रात लांबा दो दोस्तों के साथ सुमन नगर स्थित अपने परिचित के घर गए थे। परिचित ने दिल्ली में दूसरी शादी कर ली है, जबकि उनकी दो लड़कियां और दो बेटे सुमन नगर में रहते हैं। चारों बच्चे नाबालिग हैं। पुलिस के मुताबिक पंकज लांबा ने दोस्तों के साथ मिलकर नाबालिग बच्चों के साथ पार्टी की।
रात करीब 11 बजे पंकज ने परिचित की किशोर वय बेटी की जिद पर अपनी राइफल की मैगजीन निकालकर उसे दे दी। बच्ची ने अचानक ट्रिगर दबाया तो चैंबर में फंसी गोली चल गई और पंकज को लग गई। आनन-फानन में उनको अस्पताल ले जाया गया और चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।गौरतलब है कि पंकज लांबा की शिकायत पर ही वर्ष 2011-12 से वर्ष 2016 तक अनुसूचित जाति जनजाति छात्रवृत्ति घोटाले का खुलासा हो सका है। लांबा की गोली लगने से मौत होने से पुलिस में हड़कंप मचा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here