उत्तराखंड : ‘चोरी’ और ‘सीनाजोरी’ में फंसे विधायक और उनकी धर्मपत्नी!

  • दुष्कर्म के साथ मामला दबाने के आरोप में द्वाराहाट विधायक महेश नेगी और उनकी पत्नी पर मुकदमा
  • एसीजेएम पंचम कोर्ट ने पुलिस को अविलंब मुकदमा दर्ज कर विवेचना का दिया था आदेश 

देहरादून। द्वाराहाट विधायक महेश नेगी और उनकी पत्नी रीता नेगी के खिलाफ कोर्ट के आदेश के बाद आज रविवार सुबह मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मुकदमा नेहरू कॉलोनी थाने में दर्ज किया गया है। नेहरू कॉलोनी थाने के इंस्पेक्टर राकेश गुसाईं ने बताया कि विधायक पर दुष्कर्म करने, जबकि उनकी पत्नी पर जान से मारने की धमकी देने और मामले को दबाने का आरोप है।
गौरतलब है कि शनिवार को एसीजेएम पंचम की कोर्ट ने विधायक पर दुष्कर्म और रीता नेगी पर अनैतिक कार्य करते हुए मामले को दबाने के आरोप में अविलंब मुकदमा दर्ज करने को कहा था। महिला के वकील एसपी सिंह ने बताया कि पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं की थी। इसके चलते कोर्ट में 156 (3) के तहत प्रार्थना पत्र दाखिल किया गया था। शनिवार को यह प्रार्थनापत्र एसीजेएम पंचम ने स्वीकार कर लिया। इस मामले में कोर्ट ने थाना नेहरू कॉलोनी पुलिस को जल्द विवेचना शुरू करने को भी कहा है।
घटनाक्रम के अनुसार पिछले महीने विधायक की पत्नी ने महिला के खिलाफ ब्लैकमेलिंग का मुकदमा दर्ज कराया था। जिसमें आरोप लगाया गया है कि महिला विधायक से संबंध होने की बात करके उनसे पांच करोड़ रुपये मांग रही है। पीड़ित महिला ने अपनी बच्ची के पिता का नाम भी विधायक का ही बताया था।
इधर मुकदमा दर्ज हुआ और उधर शाम तक महिला भी खुले तौर पर विधायक के खिलाफ सोशल मीडिया पर आ गई। उसने विधायक पर गंभीर आरोप लगाए और बच्ची का डीएनए विधायक से मैच कराने की मांग की थी। मामले की जांच पहले नेहरू कॉलोनी थाना पुलिस कर रही थी, मगर बाद में इसे सीओ सदर को दे दिया गया था। इस मामले में राज्य महिला आयोग और बाल आयोग ने भी पुलिस को रिपोर्ट देने के लिए कहा था।    

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here