हिम कबूतरों की गुटरगूं से गुंजायमान हो रहा केदारनाथ अभयारण्य!

  • केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में प्रवासी पक्षियों ने अपना बसेरा जमाना किया शुरू

गोपेश्वर से महिपाल गुसाईं।

केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग गोपेश्वर के अंतर्गत उच्च हिमालई क्षेत्रों में मध्य एशिया के देशों के प्रवासी पक्षियों ने अपना बसेरा जमाना शुरू कर दिया हैं। प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरू होते ही उन की सुरक्षा के लिए वन विभाग ने भी अपनी सक्रियता बढ़ानी शुरू कर दी हैं। इन दिनों केदारनाथ प्रभाग के अंतर्गत केदारनाथ अभयारण्य हिम कबूतरों की गुटरगूं से गुंजायमान होने लगा है। जिन्हें लेकर प्रभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी खासे उत्साहित नजर आ रहे हैं।
गौरतलब है कि लंबे अरसे से केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग का केदारनाथ अभयारण्य प्रवासी पक्षियों की पसंदीदा स्थानों में उभर कर सामने आया हैं। इस अभयारण्य के चटृानों, पेड़ों, बुग्यालों में शीतकाल के दौरान प्रवास पर मध्य एशियाई देशों अफगानिस्तान, भूटान, चीन, कजाकिस्तान, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्क आदि देशों से विभिन्न प्रजाति के पक्षी आते जा रहे हैं। इस वर्ष भी ठंड बढ़ने के साथ ही प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरू हो गया हैं। पिछले दिनों सब से पहले यहां पर हिम कबूतरों का झुंड यहां प्रवास पर पहुंचा हैं।
केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी अमित कंवर ने बताया कि इस सीजन में भी प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरू हो गया हैं। पिछले दिनों केदारनाथ अभयारण्य के करीब 3400 मीटर की ऊंचाई के क्षेत्र के ताल एवं चट्टानों में मध्य एशिया के पहाड़ी क्षेत्रों में निवासरत कोलम्बिड़े परिवार की पक्षी प्रजाति के हिम कबूतरों वैज्ञानिक नाम (कोलबाल्यूं को नोटा) के झुंड को देखा गया हैं। जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस बार भी कई विदेशी मुल्कों के पक्षी यहां पर शीतकालीन प्रवास पर पहुंच सकते हैं।
प्रवासी पक्षियों का आगमन शुरू होने के बाद उनके चिन्हीकरण के साथ ही उनकी सुरक्षा एवं सुरक्षित प्रवास के बाद वापसी के लिए वन प्रभाग ने भी अपनी कसरत तेज कर दी हैं। इस संबंध में प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी अमित कंवर ने एक निर्देश अपने अधीनस्थों को जारी कर दिया है। जिसमें आने वाली मेहमान पक्षियों के चिन्हीकरण, उनके आचार-व्यवहार, छाया चित्रों के साथ ही उनके प्रवास में किसी भी तरह का खलल ना हो सके, इसकी व्यवस्था करने को कहा है। इसके साथ ही इनकी सुरक्षा के लिए भी बेहतर से बेहतर व्यवस्था करने के भी सख्त निर्देश जारी कर दिए हैं। कंवर का मानना हैं कि इस बार भी काफी संख्या में अभ्यारण्य में प्रवासी पक्षी आ सकते हैं। इन की सुरक्षा एवं सुरक्षित वापसी प्रभाग की एक बड़ी जिम्मेदारी है। जिसके लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here