देहरादून। आईआईटी रुड़की के पूर्व छात्र रहे अशोक सूटा के स्कान नामक मेडिकल रिसर्च ट्रस्ट ने संस्थान को 20 करोड़ रुपये का अनुदान देने की घोषणा की है। एक चेयर प्रोफेसरशिप, तीन फैकल्टी फेलोशिप, एक लैब का निर्माण और संयुक्त अनुसंधान परियोजनाओं के लिए इस अनुदान का उपयोग किया जाएगा।
स्कान के अध्यक्ष अशोक सूटा ने बताया कि अपनी मातृ संस्था के लिए कुछ करने का अवसर मिला है। स्कान चिकित्सा अनुसंधान का सार्वजनिक चैरिटेबल ट्रस्ट है। इसका गठन इसी साल पांच अप्रैल को किया गया। उन्होंने अनुदान की घोषणा करते हुए कहा कि देश में आज भी चिकित्सा अनुसंधान के लिए निजी वित्त का प्रवाह नगण्य है और इस क्षेत्र में आईआईटी रुड़की के उत्कृष्ट कार्य से मुझे बहुत प्रसन्नता है।
उन्होंने कहा कि उन्हें अनुदान देने और आईआईटी रुड़की की जरूरतें पूरी करने का यह बड़ा अवसर मिला है। बोर्ड ऑफ गवर्नर आईआईटी रुड़की के अध्यक्ष बीवीआर मोहन रेड्डी ने कहा कि इस सहयोग से आईआईटी रुड़की में हो रहे जैविक विज्ञान और जैविक इंजीनियरिंग के अनुसंधान में तेजी आएगी।
मोहन रेड्डी ने कहा कि संस्थान के पूर्व छात्र के रूप में अशोक सूटा अनुकरणीय हैं और वर्तमान और भावी पीढ़ियों के लिए आदर्श हैं। संस्थान निदेशक प्रो. अजीत कुमार चतुर्वेदी ने कहा कि एक लंबे अंतराल के बाद किसी भी आईआईटी के पूर्व छात्र ने इतनी उदारता से अपने संस्थान को दान दिया है। इससे आईआईटी रुड़की के अपने पूर्व छात्रों से रिश्तों में एक नए अध्याय की शुरुआत हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here