गजब : सरकार को पता ही नहीं, हरिद्वार में बनेगा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट!

  • कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने हरिद्वार में की थी घोषणा, यहां बनेगा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा

देहरादून। एक ओर पर्यटन मंत्री हरिद्वार में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने की जानकारी दे चुके हैं तो दूसरी ओर तीरथ सरकार को इस बात की खबर नहीं है कि ऐसा भी कोई प्रस्ताव है। शासकीय प्रवक्ता व कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के मुताबिक सरकार के स्तर पर ऐसा कोई प्रस्ताव अभी तक विचाराधीन नहीं है।
बीते सोमवार को कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने हरिद्वार में कहा था कि यहां 2030 तक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाया जाएगा। उन्होंने जिलाधिकारी को भूमि तलाशने के निर्देश भी दिए हैं। हालांकि हरिद्वार के नजदीक जौलीग्रांट में देहरादून हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की योजना के बीच महाराज की इस घोषणा के बाद कई तरह के सवाल भी हवा में तैरने लगे हैं।
जब तीर्थनगरी में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाए जाने के बारे में प्रदेश सरकार से पूछा गया तो उसने इस प्रस्ताव को लेकर अनभिज्ञता जाहिर की। शासकीय प्रवक्ता वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा कि प्रदेश सरकार के स्तर पर हरिद्वार में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने का कोई प्रस्ताव नहीं है। हालांकि उनियाल ने यह भी कहा कि महाराज हरिद्वार के प्रभारी मंत्री हैं और यदि उन्होंने ऐसी कोई परिकल्पना की है तो जब सरकार के पास ऐसा कोई प्रस्ताव आएगा तो कैबिनेट उस पर विचार करेगी। 
महाराज की घोषणा पर उठे सवाल
1. जौलीग्रांट एयरपोर्ट हरिद्वार के नजदीक है। ऐसे में हरिद्वार में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने का क्या तुक है?
2. प्रदेश सरकार जौलीग्रांट एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाने को लेकर कई बार घोषणा कर चुकी है, उस घोषणा का क्या होगा?
3. जौलीग्रांट हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की योजना चल रही है। पहले चरण का काम अंतिम दौर में है। क्या इस पर कोई रोक लगने वाली है?
4. हरिद्वार में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को लेकर कोई सर्वे हुआ है। क्या उसकी कोई फिजिबिलिटी रिपोर्ट है?
5. क्या नागरिक उड्डयन मंत्रालय से पर्यटन मंत्री को कोई ऐसे संकेत मिले हैं कि हरिद्वार में एयरपोर्ट बनाया जाएगा?
इस बारे में देहरादून एयरपोर्ट के निदेशक प्रभाकर मिश्रा ने बताया कि जौलीग्रांट एयरपोर्ट के विस्तारीकरण की योजना पर कार्य चल रहा है। इसके लिए राज्य सरकार से 243 एकड़ भूमि मांगी गई है। एयरपोर्ट अथॉरिटी के माध्यम से राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा है, जो अभी विचाराधीन है। इसमें सिविल और वन भूमि आ रही है।
इस बारे में पूछे जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बताया, हरिद्वार में एयरपोर्ट के बारे में मैंने भी अखबार में पढ़ा है। यह मेरी जानकारी में नहीं है। इस बारे में महाराज ही जानकारी दे सकेंगे, लेकिन  जौलीग्रांट एयरपोर्ट विस्तारीकरण की योजना का काम चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here