चमोली जिले में उरेडा के छोटे-छोटे पावर प्रोजेक्टों को फिर कराएंगे चालू : तीरथ

थराली से हरेंद्र बिष्ट।

आज मंगलवार को गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने कहा कि आजादी के 70 सालों के बाद जिस तेजी के साथ उत्तराखंड में नई रेललाइनों के निर्माण की मांग उठ रही हैं वह सब मोदी राज में ही संभव हो पाया हैं। सांसद ने चमोली जिले में बिजली ग्रिड के उरेड़ा की छोटी-छोटी बिजली परियोजनाओं के बंद होने पर आश्चर्य जताते हुए मामले में आवश्यक कार्रवाई की बात कही।
दो दिवसीय पिंडर घाटी के भ्रमण के अंतिम दिन यहां बनरढोन स्थित वन विभाग के बंगले में आज मंगलवार को एक प्रेस वार्ता में रावत ने कहा कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन का तेज गति से निर्माण होने के बाद राज्य के तमाम अन्य क्षेत्रों से भी नई रेल लाईनों के पूरे राज्य से मांग उठने लगी हैं। आजादी के 70 सालों बाद मोदी राज में ही यह संभव हो पाया है जो सुखद है। अभी जोशीमठ एवं रामनगर-चौखुटिया नई रेल लाईनों का सर्वे चल रहा है आने वाले समय में निश्चित ही अन्य क्षेत्रों का भी सर्वेक्षण किया जाएगा।

पिंडर घाटी की बदहाल मोटर सड़कों के संबंध में उन्होंने कहा कि सड़कों को ठीक किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं और इस प्रयास में तेजी लाई जाएगी। पीएमजीएसवाई, भारत माला सहित अन्य योजनाओं से मोटर सड़कों का विस्तार एवं सुधार का कार्य जारी है।सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के द्वारा थराली-देवाल-वांण मोटर सड़क के हॉटमिक्स की तीन वर्ष पूर्व घोषणा के बाद भी काम शुरू न होने पर उन्होंने कहा कि इस सड़क को ठीक किए जाने का वह प्रयास करेंगे।
बिजली के संबंध में रावत ने कहा कि आज प्रत्येक घर में बिजली के मीटर एवं कनैक्शन हैं। लोग बिजली का भरपूर लाभ उठा रहे हैं। ग्रिड की लाईनों के निर्माण के बाद चमोली जिले में उरेडा के बनाए गए कई छोटे-छोटे पावर प्रोजेक्टों के बंद हो जाने एवं इनमें काम करने वाले दर्जनों स्थानीय ग्रामीणों के बेरोजगार होने के संबंध में रावत में परियोजना के बंद होने पर अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि अगर ऐसा हुआ है तो ये गलत हुआ है। इस मामले का वह संज्ञान लेंगे।
सांसद ने सीएचसी थराली में चिकित्सकों की प्रर्याप्त तैनाती, यहां पर अल्ट्रसाउंड का स्टाफ तैनात किए जाने, 250 तक की आबादी वाले गांवों को यातायात से जोड़ने, कुलसारी में मीनि खेल स्टेडियम का निर्माण करवाने के प्रयास करने की बात कही। रावत ने कहा कि कोविड़ 19 के कारण वह केवल 4-5 माह ही अपने संसदीय क्षेत्र में विकास कार्य कर पाए हैं। हालांकि वह लगातार जिला प्रशासन के संपर्क में थे, ताकि लोगों को अधिकतम सुविधा मुहैया कराई जा सके, इसके साथ ही मौका मिलते ही उन्होंने संचार, पोस्टल, पर्यावरण के कारण राज्य की विकास योजनाओं पर पड़ रहे विपरीत प्रभावों, सड़क, यातायात, स्वास्थ्य, शिक्षा से जुड़े मामलों को संसद में उठाने के प्रयास किए। जिससे विकास कार्यों में तेजी आ सके। इस जिले की तमाम समस्याओं से वे पहले ही रूबरू हैं एवं भ्रमण के दौरान कई अन्य समस्याओं की उन्हें जानकारी दी गई है, जिनका वह निराकरण करने का प्रयास करेंगे। प्रेसवार्ता के दौरान थराली की विधायक मुन्नी देवी शाह, भाजपा जिलाध्यक्ष रघुवीर सिंह बिष्ट, थराली के पूर्व प्रमुख राकेश जोशी, मंडल अध्यक्ष रणजीत सिंह नेगी, युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष देवेंद्र नेगी, कुंदन परिहार, नरेंद्र राणा आदि मौजूद थे।
रावत ने भाजपा के वरिष्ठ नेता सुरेंद्र सिंह बिष्ट ‘सूरी भाई’ के घर वांक गांव पहुंचकर उनके आकस्मिक निधन पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी के लिए जो सहयोग एवं त्याग किया है, उसे भुलाया नही जा सकता हैं। उन्होंने परिजनों को पार्टी स्तर पर हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here