बाबा केदार पर श्रद्धालुओं की अटूट आस्था, दो लाख पार श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

रुद्रप्रयाग। बाबा केदार पर श्रद्धालुओं की अटूट आस्था ने इस बार नए आयाम स्थापित किए हैं। महज 50 दिन की केदारनाथ धाम यात्रा में दो लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए हैं। चारधाम यात्रा के इतिहास में पहली बार केदारनाथ पहुंचने वाले यात्रियों की संख्या चारों धाम में सबसे अधिक रही। वहीं, कोविड प्रतिबंधों के बावजूद देर से शुरू हुई चारधाम यात्रा में इस साल पांच लाख से अधिक तीर्थ यात्रियों ने दर्शन किए। यात्रा कम अवधि के लिए संचालित होने के बावजूद पिछले साल के मुकाबले यात्रियों की संख्या में रिकॉर्ड इजाफा दर्ज किया गया। चारधाम में आमतौर पर बदरीनाथ धाम में सबसे अधिक तीर्थ यात्री दर्शन के लिए पहुंचते हैं। लेकिन इस बार दिलचस्प बात यह है कि केदारनाथ धाम में सबसे अधिक तीर्थ यात्रियों ने दर्शन किए हैं। देवस्थानम बोर्ड की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार केदारनाथ धाम में इस साल कुल 2,42712 यात्रियों ने दर्शन किए। जबकि बदरीनाथ में 1,97,056 यात्रियों ने दर्शन किए हैं। गंगोत्री में 33,166 जबकि यमुनोत्री में 33,306 तीर्थ यात्रियों ने दर्शन किए।  
गौरतलब हो कि इस साल मई महीने में चारधामों के कपाट खुलने के बावजूद भी कोविड संक्रमण की वजह से हाइकोर्ट ने यात्रा पर रोक लगाई थी। उत्तराखंड सरकार ने यात्रा खोलने के लिए हाईकोर्ट में अपील की जिसके बाद कोर्ट ने यात्रा से रोक हटाते हुए सीमित संख्या में यात्रा शुरू करने की अनुमति दी। जिसके बाद 18 सितंबर से चारधाम यात्रा की शुरूआत हुई। लेकिन ई-पास की बाध्यता और यात्रियों की सीमित संख्या के कारण कम ही लोग चारधामों के दर्शन कर पा रहे थे। यहां तक की कई श्रद्धालु बिना दर्शन किए हुए भी वापस लौटे। जिसको देखते हुए हाईकोर्ट ने चारधाम से जुड़ी सभी व्यवस्थाओं को पांच अक्तूबर से खत्म कारने फैसला लिया। इसके बाद रिकॉर्ड संख्या में देशभर से तीर्थयात्री दर्शन के लिए चारधामों में पहुंचे। वहीं, साल 2020 में चारधाम यात्रा का संचालन एक जुलाई से शुरू हो गया था। लेकिन चारधाम के कपाट बंद होने तक कुल 3,21749 तीर्थ यात्रियों ने ही दर्शन किए। जबकि इस बार महज 64 दिन की कम अवधि में यात्रा संचालित होने के बावजूद यात्रियों की संख्या पांच लाख बासठ हजार दो सौ चालीस रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here