चमोली : क्वारंटाइन सेंटर में बुजुर्ग की मौत से देवाल ब्लॉक में दहशत

सिस्टम पर उठे सवाल

  • बिना सैंपल लिये और पोस्टमॉर्टम के परिजनों ने पैतृक घाट पर किया बुजुर्ग का दाह संस्कार  
  • थराली के एसडीएम ने बताया, टीबी से संक्रमित थे बुजुर्ग, सम्भवतः इसी से हुई होगी मौत
  • अभी तक मृतक बुजुर्ग के साथ रह रहे अन्य परिजनों के भी नहीं लिए गए हैं सैंपल
  • पुलिस, प्रशासन व स्वास्थ्य महकमे की कार्य प्रणाली को लेकर क्षेत्र में उठाए जा रहे सवाल

थराली से हरेंद्र सिंह बिष्ट।
देवाल ब्लाक के ल्वाणी गांव के क्वारंटाइन सेंटर में दिल्ली से लौटे एक बुजुर्ग की आज रविवार सुबह मौत होने से क्षेत्र में दहशत छा गई है। हालांकि प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ने इसे स्वाभाविक मौत का मामला बताते हुए पूरे मामले से पल्ला झाड़ दिया है। जबकि परिजनों ने बिना वैधानिक प्रक्रिया से गुजरे ही मृतक का अन्तिम संस्कार पैतृक घाट पर कर दिया है।
मिली जानकारी के अनुसार 12 जून को ल्वाणी गांव के एक 80 वर्षीय बुजुर्ग अपने पुत्र, पुत्रवधू व एक नाती को साथ लेकर दिल्ली से गांव ल्वाणी लौटे थे। इस पर ग्रामीणों ने उन्हें अपने घर में रहने के बजाय गांव में पंचायतघर में बनाये गए क्वारंटाइन सेंटर में रखवा दिया। जहां पर आज रविवार तड़के उन बुजुर्ग की तबीयत बेहद खराब हो गई। ग्रामीणों की सूचना पर क्वारंटाइन सेंटर पहुंचे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र देवाल के चिकित्सक डाॅ. शहजाद अली ने बुजुर्ग की जांच कर उन्हें मृत घोषित कर दिया।

ल्वाणी क्वारंटेन सेंटर जहां बुजुर्ग की मृत्यु हुई

डॉ अली ने बताया कि उन्हें रात को करीब 3 बजे बताया गया कि क्वारंटाइन सेंटर में बुजुर्ग का स्वास्थ्य खराब हैं। किन्तु जब तक वह पहुंचे, तब तक बुजुर्ग की मौत हो चुकी थी। बुजुर्गों के परिजनों के अनुरोध पर एवं ग्राम प्रधान द्वारा जारी प्रमाणपत्र के बाद, पुलिस प्रशासन ने बुजुर्गों के न तो सैंपल लिए और न ही उनका पोस्टमार्टम ही करवाया। परिजनों ने मृतक का उसके पैतृक घाट भौरियागढ़ में अंतिम संस्कार कर दिया हैं। हालांकि दाह संस्कार में भी काफी कम संख्या में ग्रामीण शामिल हुए।
इस संबंध में पूछे जाने पर थराली के उपजिलाधिकारी केएस नेगी ने बताया कि क्वारंटाइन सेंटर ल्वाणी में एक बुजुर्ग की मौत की उन्हें सूचना हैं। उन्होंने बताया कि बुजुर्ग टीबी से संक्रमित थे। सम्भवतः इसी के कारण उनकी मौत हुई होगी। परिजनों के अनुरोध पर बुजुर्ग का पोस्टमार्टम नहीं करवाया गया और न ही सैंपल लिया गया है। अभी तक मृतक के साथ रह रहे अन्य परिजनों के भी सैंपल नहीं लिए गए हैं। इससे क्षेत्र में जहां चर्चाओं का बाजार गर्म हैं। वहीं पुलिस, प्रशासन व स्वास्थ्य महकमे की कार्य प्रणाली को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here