देहरादून। प्रदेश में मेरा गांव मेरी सड़क योजना के तहत 36 सड़क योजनाओं को स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। इसके तहत लोनिवि और पीएमजीएसवाई की परिधि से बाहर के संपर्कविहीन गांवों को मुख्य सड़क मार्गों से जोड़ा जाएगा।

ग्राम्य विकास मंत्री गणेश जोशी ने बताया कि यदि आवश्यकता होगी तो और गांवों को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए अनुपूरक बजट में धनराशि की व्यवस्था की जाएगी। इस योजना में मुख्य सड़क से एक किमी की दूरी पर स्थित संपर्कविहीन गांवों को सर्वमौसम संपर्कता के लिए सड़क निर्माण की कार्ययोजना को स्वीकृति प्रदान की जाती है। विगत वर्ष इस योजना में 49 गांवों के लिए सड़कें स्वीकृत की गयी थीं, जिन पर कार्य प्रारंभ किया जा चुका है।

इन सड़कों को दी गई मंजूरी…

उधमसिंहनगर : विकासखंड काशीपुर के जैतपुर घोसी, विकासखंड बाज़पुर के बन्नाखेड़ा, विकासखंड सितारगंज के पिपलिया।

देहरादून : विकासखंड कालसी के सराड़ी, विकासखंड सहसपुर के रामपुर कला, विकासखंड चकराता के खबऊ, येथाना भुनाड, कंडोई बोन्दूर, बुसरवा, बनियाला, म्यूडा, नाडा, मैरवाना, मैंड्रथ, कुल्हा, विकासखंड रायपुर के हल्दाडी, चामासारी, विकासखंड डोईवाला गड़ूल, चक जोगीवाला माफी, बड़कोट, कालूवाला, विकासखंड कालसी के सलगा।

हरिद्वार : विकासखंड लक्सर के खेड़ीखुर्द, विकासखंड रुड़की के नगलाकुबड़ा।

टिहरी : विकासखंड जौनपुर के बंडाचक, विकासखंड चम्बा के लामकोट, विकासखंड थौलधार के तिखान, खंड बिडकोट, देवप्रयाग के महड़।

अल्मोडा : विकासखंड धौलादेवी के खेती, विकासखंड भिकियासेन के बासोट, विकासखंड सल्ट के कालीगाड़

पिथौरागढ़ : विकासखंड डीडीहाट के खेतार कन्याल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here