उत्तराखंड : देवाल के हरमल, ओड़र और सुपलीगाड़ में जल्द चलेंगी इंजनचालित ट्रॉलियां

ग्रामीणों को मिलेगी आवागमन की सुविधा

  • देवाल के ब्लाक प्रमुख दर्शन दानू की मांग पर लोनिवि के ईई ने दिया आश्वासन
  • कहा, खेता के भौरियाबगड़ व फल्दिया गांव में भी नई ट्रॉलियों का होगा संचालन

थराली से हरेंद्र सिंह बिष्ट।
देवाल विकासखंड के अंतर्गत विभिन्न नदियों एवं गदेरों में जल्द ही इंजनचालित ट्रॉलियों का संचालन शुरू किया जाएगा। इस संबंध में देवाल के ब्लाक प्रमुख दर्शन दानू की मांग पर निर्माण खंड लोनिवि थराली ने देवाल क्षेत्र की जनता को आश्वासन दिया है।    
आज शुक्रवार को यहां निर्माण खंड लोनिवि के कार्यालय में प्रमुख दर्शन दानू ने लोनिवि के अधिशासी अभियंता मूल चंद गुप्ता को बताया कि वर्ष 2013 में आई दैवीय आपदा के कारण देवाल ब्लॉक के पिंडर नदी पर हरमल और ओड़र के साथ ही कैल नदी पर सुपलीगाड़ में निर्मित झूला पुल नदियों की भेंट चढ़ गये थे। आपदा के बाद तीनों स्थानों पर लोनिवि थराली द्वारा इंजनचालित ट्रॉलियों की स्थापना कर उनका संचालन शुरू कर दिया था। जिससे क्षेत्र के लोगों को आवागमन की सुविधा हो गई थी।
प्रमुख ने बताया कि इस वर्ष इन नदियों में आर पार जाने के लिए ग्रामीणों द्वारा श्रमदान से बनाये गये लकड़ी के अस्थाई पुल नदियों के जलस्तर बढ़ने से बह गये हैं। जिस कारण इन गांवों में आने जाने के लिए ग्रामीणों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पिछले वर्ष इसी विकासखंड के फल्दिया गांव में देवी आपदा के कारण फल्दिया गांव गधेरे में निर्मित आरसीसी पुलिया आपदा की भेंट चढ़ गयी थी। जिसके कारण इस गदेरे से फल्दिया गांव के ग्रामीण को आने जाने में भारी परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है।
दर्शन ने उन्हें बताया कि खेता के भंवरियाबगड़ में भी ग्रामीणों द्वारा निर्मित लकड़ी की पुलिया पिंडर नदी में बह जाने के कारण रामपुर, तोर्ती, धार आदि गांवों के ग्रामीण भी बेहद परेशान हैं। ब्लाक प्रमुख की मांग पर लोनिवि के ईई मूलचंद गुप्ता ने हरमल, ओड़र एवं सुपलीगाड़ में स्थापित इंजन ट्रालियों का संचालन तत्काल शुरू करने एवं खेता के भौरियाबगड़ व फल्दिया गांव में नई ट्रालियों की स्थापना करने के लिए कार्रवाई शुरू करने का आश्वासन ब्लाक प्रमुख को दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here