रोहित के कत्ल की कहानी, सुनिये अपूर्वा की जुबानी !

सुलझ गई मर्डर मिस्ट्री

  • दिल्ली पुलिस ने किया दावा, अपूर्वा ने झगड़े के बाद रोहित को गला घोंटा
  • कहा, अपूर्वा और रोहित के बीच अच्छे संबंध नहीं थे और दोनों में था काफी तनाव
नई दिल्ली। आखिरकार दिल्ली पुलिस ने यूपी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या के राज का पर्दाफाश कर ही दिया। पुलिस के मुताबिक रोहित शेखर की पत्नी अपूर्वा ने स्वीकार किया कि आपसी झगड़े के बाद उनकी गला दबाकर हत्या की थी। अपूर्वा को आज सुबह पुलिस ने गिफ्तार कर लिया। 
क्राइम ब्रांच के अनुसार अपूर्वा ने पुलिस की पूछताछ और जांच के बाद 15 और 16 अप्रैल की रात रोहित की हत्या की पूरी कहानी सामने रखी। पुलिस के अनुसार, 16 अप्रैल को रात में खाना खाने के बाद उनकी मां और रिश्तेदार अपने तिलक लेन बंगले में और उनके सौतेले भाई भी चले गए और घर के नौकर भी सोने के लिए चले गए। क्राइम ब्रांच ने कहा, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में स्पष्ट तौर पर कहा गया कि उनकी मौत का कारण मुंह-हाथ और गला दबाने के कारण हुई। हमारी टीम ने चार दिन तक काफी मशक्कत की और मौजूद सभी लोगों से कई-कई बार पूछताछ की गई। आखिरकार यह जांच में स्पष्ट हो गया कि उनकी पत्नी अपूर्वा तिवारी ने मुंह-हाथ दबाकर, उनकी गला घोंटकर हत्या की।
क्राइम ब्रांच के अनुसार अपूर्वा ने बताया कि दोनों में शादी के बाद से ही काफी तनाव था। उत्तराखंड से लौटते हुए भी वह एक महिला रिश्तेदार के साथ रोहित शराब पी रहे थे और इस कारण उसका रोहित से काफी झगड़ा हुआ था। इसी कारण से गुस्से के चलते करीब रात के एक बजे झगड़े के दौरान अपूर्वा ने उसका गला दबा दिया। रोहित को इन्सोमेनिया था और अक्सर वह देर रात तक जगे रहते थे। इस कारण देर तक सोते रहने के कारण घर में मौजूद लोगों को ज्यादा शक नहीं हुआ।
पुलिस का दावा है कि अपूर्वा ने यह पहले से प्लान नहीं किया था। दोनों के आपसी झगड़े के चलते रोहित और उनका परिवार तलाक के बारे में सोच रहे थे। प्रॉपर्टी का भी एक ऐंगल हैं क्योंकि डिफेंस कॉलोनी का घर रोहित और उनके सौतेले भाई को ही मिलना था और अपूर्वा का इसमें कोई हिस्सा नहीं था।
अपूर्वा ने बताया कि पति-पत्नी के बीच वैवाहिक जीवन में काफी तनाव था और 15 अप्रैल की रात जब उसने रोहित को उसकी महिला मित्र को शराब पीते देखा तो उसका गुस्सा आसमान पर पहुंच गया और इसी गुस्से के चलते उसके और रोहित के बीच जमकर झगड़ा हुआ और दोनों में हाथापाई भी हुई। इसी बीच उसने रोहित का गला दबा दिया और उसकी मौत हो गयी। हत्या के बाद अगले 90 मिनट में उसने सबूत मिटाए और बाद में जांच में पुलिस को गुमराह करने की कोशिश भी की। 
पुलिस के अनुसार भी हत्या वाली रात रोहित और अपूर्वा में झगड़े की बात सामने आई है। सबूत मिटाने के लिए अपूर्वा ने मोबाइल फॉर्मेट भी किया था। हालांकि बाद में सारे सबूत अपूर्वा के खिलाफ साबित होने पर पुलिस ने अपूर्वा को रोहित की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया और इस तरह एनडी तिवारी के पुत्र की मर्डर मिस्ट्री का खुलासा होने के साथ ही इस प्रेम विवाह का दुखद अंत सामने आया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here