पुणे पोर्शे एक्सीडेंट केस में अब नाबालिग का दादा गिरफ्तार, ड्राइवर ने लगाए ये संगीन इल्जाम

पुणे। इन दिनों पुणे में हुए सड़क हादसे की चर्चा हो रही है। यहां एक तेज रफ्तार लग्जरी कार ने एक मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी थी, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई। कार 17 साल का नाबालिग चला रहा था, जो शराब के नशे में धुत था। इस मामले में लगातार नए-नए पहलू सामने आ रहे हैं। अब पुणे में हुए पोर्शे हिट एंड रन मामले में नाबालिग आरोपी के दादा सुरेंद्र अग्रवाल को अब गिरफ्तार किया है। अभी तक नाबालिग आरोपी के बिल्डर पिता का दावा था कि हादसे वाले दिन बेटा नहीं, बल्कि ड्राइवर गाड़ी चला रहा था। लेकिन अब ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि दादा सुरेंद्र अग्रवाल ने उस पर झूठे बयान दर्ज करवाने के लिए दबाव डाला था।

अधिकारी ने बताया कि किशोर के पारिवारिक ड्राइवर की शिकायत पर, यरवदा पुलिस ने किशोर के दादा और पिता के खिलाफ IPC की धारा 365 (किसी व्यक्ति को गुप्त रूप से और गलत तरीके से कैद करने के इरादे से अपहरण करना) और 368 (गलत तरीके से छिपाना या कैद में रखना) के तहत एक अलग केस दर्ज किया है। दुर्घटना के बाद, किशोर के दादा और पिता ने कथित तौर पर ड्राइवर का फोन ले लिया। हालांकि, इससे पहले खुद ड्राइवर ने पुलिस के सामने ये बयान दिया था कि हादसे वाले दिन पोर्शे कार को वही चला रहा था।

पब के सीसीटीवी फुटेज में छेड़छाड़…

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जिस कोजी बार में नाबालिग शराब पी रहा था, उस पब के सीसीटीवी फुटेज से भी छेड़छाड़ की गई है। यानी कि सीसीटीवी फुटेज की टेंपरिंग की गई है। आरोपी ने ही डिजिटल पेमेंट की थी और कुल 48 हजार रुपए खर्च किए थे। वहीं, येरवडा पुलिस स्टेशन के अधिकारियों पर भी सवाल उठ रहे हैं। ऐसा दावा किया जा रहा है कि गिरफ्तारी के बाद आरोपी नाबालिग को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया गया था। उसे खाने को पिज्जा और बर्गर दिए गए थे। इसलिए पुलिस स्टेशन के अंदर लगे सीसीटीवी फुटेज को भी जब्त किया गया है।

पोर्शे कार का रजिस्ट्रेशन रद्द…

जिस पोर्शे कार से नाबालिग ने दो लोगों को कुचला था, उसका रजिस्ट्रेशन आरटीओ ने 12 महीने के लिए रद्द कर दिया है। इससे पहले नाबालिग आरोपी के बिल्डर पिता विशाल को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि हादसे के बाद विशाल फरार हो गया था। वह पुलिस को चकमा देने के लिए अपना लोकेशन बदलता रहा। वह पुणे के फार्महाउस से कोल्हापुर गया, फिर वहां से मुंबई आ गया।

क्या है पूरा मामला…

18 मई, 2024 को पुणे के कल्याणपुरी में एक हादसा हुआ। 17 साल के नाबालिग ने पोर्शे कार से 2 लोगों को कुचल दिया। दोनों इंजीनियर थे। मृतकों के नाम अश्विनी और अनीश हैं। आरोप था कि नाबालिग आरोपी ने शराब पी रखी थी और नशे में कार को चला रहा था। हालांकि, कोर्ट से उसे 15 घंटे के अंदर जमानत मिल गई। इसको लेकर मृतकों के घरवालों ने सवाल उठाए कि पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धाराएं कम लगाईं, केस को हल्का किया। यहीं वजह रहा कि कोर्ट से आरोपी को जल्दी जमानत मिल गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here