उत्तरकाशी : सड़क न होने से कोसों पैदल चली गर्भवती, रास्ते में ही जन्मा बच्चा

उत्तरकाशी। जनपद के हिमरोल गांव की एक गर्भवती रामप्यारी को प्रसव पीड़ा हुई तो परिजन उसे लेकर चले, ताकि सड़क तक पहुंचकर उसे अस्पताल ले जाया जा सके, लेकिन गर्भवती ने सड़क तक पहुंचने से पहले गांव के रास्ते में ही बच्चे को जन्म दे दिया। 
इसके बाद परिजन जच्चा-बच्चा को किसी तरह सड़क तक ले गये और फिर 40 किलोमीटर दूर सीएचसी नौगांव लेकर पहुंचे। यहां उपचार के बाद दोनों सकुशल हैं। रामप्यारी (32) के पति लक्ष्मण नौटियाल ने भगवान का शुक्रिया अदा किया। उनके मुताबिक अगर गांव तक सड़क होती तो वह अपनी पत्नी को समय से अस्पताल पहुंचा पाते। सीएचसी लाने में देर हो जाती तो दोनों की जान को मुश्किल हो सकती थी।  
बताया जा रहा है कि कागजों में हिमरोल गांव तक सड़क बन गई है, लेकिन हकीकत में ऐसा हुआ नहीं है। गांव से सड़क तक पहुंचने में एक किलोमीटर की दुर्गम राह है। कोरोना के चलते गांव लौटे प्रवासी युवाओं ने श्रमदान से सड़क बनाने की कोशिश की थी। लेकिन आधा किलोमीटर सड़क के लिये मेहनत करने के बाद रास्ते में चट्टान आ गई। जिससे उनकी हिम्मत जवाब दे गई। 
हिमरोल गांव की प्रधान मधुबाला बडोनी का कहना है कि गांव तक सड़क न होने के कारण ग्रामीणों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बीते मंगलवार को हुई घटना के पीछे भी सड़क का न होना ही है। सरकार को जल्द से जल्द उनके गांव को मुख्य सड़क से जोड़ना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here