लंदन/डेस्क। एरिस या ईजी.5.1 नाम का एक नया कोविड वैरिएंट (Covid variant) इस वक्त ब्रिटेन में चिंता का नया कारण बन रहा है। यह पूरे ब्रिटेन में तेजी से फैल रहा है। शुरुआत में 31 जुलाई को एक वेरिएंट के रूप में पहचाना गया, एरिस ओमिक्रॉन स्ट्रेन का एक वेरिएंट है और अब यह दूसरा सबसे चर्चित वेरिएंट बन गया है, जिससे दस में से हर एक इंसान परेशान है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, विशेषकर एशिया में बढ़ते मामलों के कारण देश में इसकी व्यापकता दर्ज होने के बाद 31 जुलाई को इसे कोविड के एक स्वरूप के रूप में वर्गीकृत किया गया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने दो हफ्ते पहले ही ईजी.5.1 स्वरूप पर उस वक्त नजर रखना शुरू कर दिया था जब डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस ने कहा था कि लोग टीकों और पूर्व संक्रमण से बेहतर सुरक्षित हैं, लेकिन देशों को अपनी सतर्कता में कमी नहीं आने देनी चाहिए।

अगस्त 3 को यूकेएचएसए की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में COVID-19 मामले लगातार बढ़ रहे हैं। एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा, “रेस्पिरेटरी डेटामार्ट सिस्टम के माध्यम से रिपोर्ट दर्ज किए गए। रिपोर्ट में 4,396 नमूनों में से 3.7 फीसदी को कोविड-19 के रूप में दर्ज किया गया था। एरिस के कुछ लक्षण मूल ओमीक्रॉन स्ट्रेन से विरासत में मिले हैं। और जैसा कि ZOE हेल्थ स्टडी द्वारा बताया गया है, वैरिएंट से जुड़े अहम पांच लक्षण हैं: बहती नाक, सिर दर्द, थकान (हल्की या गंभीर) छींक आना और गले में खराश हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here