सीएम बोले, हवलदार राजेंद्र की वापसी के लिए केंद्र सरकार से करेंगे बात

  • बीती नौ जनवरी को गश्त के दौरान बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान सीमा में पहुंचने के बाद से अभी तक नहीं लगा कोई सुराग

देहरादून। लापता हवलदार राजेंद्र नेगी के मामले में सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने परिजनों को आश्वस्त करते हुए कहा है कि हवलदार राजेंद्र की सकुशल वापसी के लिए वह खुद केन्द्र सरकार के साथ बात करेंगे। इसके साथ ही वह इस मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से भी बात करेंगे।
पिछली आठ जनवरी से लापता अनंतनाग फारवर्ड पोस्ट पर तैनात 11वीं गढ़वाल राइफल्स के जवान राजेंद्र सिंह नेगी के परिजन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिले। उन्होंने मुख्यमंत्री से राजेंद्र को ढूंढने के लिए केंद्र सरकार से बातचीत की मांग की। मुख्यमंत्री ने परिजनों को केंद्र सरकार से बातचीत का आश्वासन दिया है। बीते रविवार को राजेंद्र के पिता रतन सिंह नेगी, भाई कुंदन सिंह, सुरेंद्र सिंह नेगी, विधायक सहदेव सिंह पुंडीर के साथ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिले। इस दौरान राजेंद्र के पिता ने उनके बेटे को खोजने के लिए केंद्र सरकार से बात कर उचित कार्रवाई की मांग की।
बीते रविवार को मसूरी के विधायक गणेश जोशी ने भी इस मामले पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ जनरल बिपिन रावत से बात कर हवलदार राजेंद्र की‌ सकुशल वापसी के लिए मदद का अनुरोध किया। इस पर जनरल रावत ने हरसंभव प्रयास करने की बात कही। विदित हो कि हवलदार राजेंद्र आठ जनवरी को गश्त के दौरान बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान सीमा पर पहुंच गए थे। उसके बाद से उनका अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। राजेंद्र 2002 में भारतीय सेना में भर्ती हुए थे।
गौरतलब है कि मूल रूप से चमोली जिले के पज्याणां गांव निवासी राजेंद्र सिंह नेगी भारतीय सेना की 11 गढ़वाल राइफल्स में हवलदार के पद पर तैनात हैं। वर्तमान में उनकी पोस्टिंग जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग में  थी। बीती आठ जनवरी को वह गश्त के दौरान बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान सीमा पर जा पहुंचे थे और तभी से उनका कोई सुराग नहीं लगा है। सेना के अधिकारियों सहित परिजनों को आशंका है कि हवलदार राजेंद्र कहीं ‌सीमा पार पाकिस्तान न पहुंच‌ ग‌ए हों। जवान के लापता होने की खबर के बाद से परिजनों का बुरा हाल है। हवलदार राजेंद्र के भाई का कहना है कि जिस तरह मोदी सरकार ने विंग कमांडर अभिनंदन की सकुशल वापसी के लिए पाकिस्तान पर दबाव बनाया और उन्हें वतन वापस लाए, उसी तरह राजेंद्र की जल्द सकुशल वापसी के लिए भी कारवाई की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here