मरीज राजी तो भी सेक्स से बचें डॉक्टर!

नैतिकता का सवाल

  • एमसीआई की तरफ से तैयार नई गाइडलाइन में इस बारे में स्पष्ट निर्देश जारी     
  • कहा, मरीज अपनी ओर से पहल करे तो भी चिकित्सकों के लिए यह उचित नहीं
  • हाईकोर्ट की तरफ से ऐसे मामलों में नियम पूछने के बाद एमसीआई का उठाया कदम

अब देशभर के मेडिकल संस्थानों में तैनात डॉक्टर मरीजों की सहमति के बावजूद उनसे सेक्स नहीं कर सकेंगे। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) की तरफ से तैयार नई गाइड लाइन में इस बारे में चिकित्सकों के लिये स्पष्ट निर्देश जारी किया गया है।
नई गाइड लाइन में साफ कहा गया है कि अगर कोई मरीज इसकी सहमति भी दे देता है तो भी चिकित्सक किसी मरीज के साथ शारीरिक संबंध नहीं बना सकते। अगर मरीज इसके लिए अपनी तरफ से पहल करे तब भी नैतिकता के चलते डॉक्टर के लिए इस तरह के रिश्ते को स्वीकारना उचित नहीं है।
एमसीआई आचार समिति के एक सदस्य ने बताया कि पिछले दिनों दिल्ली हाईकोर्ट ने यौन दुर्व्यवहार को लेकर एमसीआई के निर्देशों के बारे में पूछा था। इसके बाद यह नई गाइडलाइन तैयार की गई है। गौरतलब है कि अमेरिका में भारतीय मूल के एक डॉक्टर के मामले को खुद संज्ञान में लेते हुए हाईकोर्ट ने एमसीआई से इस बारे में रुख स्पष्ट करने के लिए कहा था। दरअसल चिकित्सक एमसीआई से सम्बद्ध थे। समिति के सदस्य ने बताया कि इस केस के बाद हाई कोर्ट ने इस बारे में स्पष्ट और सख्त कदम उठाने के लिए कहा था।
इस पर प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय मनोचिकित्सक सोसायटी के सदस्य डॉ सुधीर भावे कहते हैं कि एमसीआई द्वारा इस गाइडलाइन को अपनाने से काफी फर्क पड़ेगा। हमें इस बात की खुशी है। हम इसे एक कदम और आगे ले जाते हुए मेडिकल कॉलेजों में छात्र—छात्राओं के सामने भी इन बातों को रखेंगे।
महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेस के डॉ अजीत पाठक कहते हैं कि ज्यादातर डॉक्टर इन नियमों को काफी पहले से अपनाते आ रहे हैं। इसमें कुछ नया नहीं है। हम पढ़ाई के दिनों से ही यह मानते रहे हैं। हां, यह जरूर है कि हर संस्थान में कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिनके कारण पूरे पेशे पर सवाल लग जाता है। ऐसे लोगों पर सख्ती की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here