तिरंगे में लिपटे शहीद सुरेंद्र को पूरे सैन्य सम्मान के साथ दी अंतिम विदाई

  • उनके पैतृक घाट नंदप्रयाग में किया गया अंतिम संस्कार, शहीद के बडे भाई सुलभ सिंह नेगी ने शहीद की चिता को दी मुखाग्नि

गोपेश्वर से महिपाल गुसाईं।
देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले चमोली की वीर भूमि में जन्मे शहीद जवान सुरेंद्र सिंह नेगी की गमगीन माहौल के बीच पूरे सैन्य सम्मान के साथ आज बुधवार को यहां अंतिम संस्कार कर दिया गया।
गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के पु़ंछ सेक्टर में तैनात चमोली जिले के सुनाली गांव निवासी एवं 8वीं गढ़वाल राइफल में तैनात सैनिक सुरेंद्र सिंह नेगी रविवार को शहीद हो गए थे। मंगलवार की देर रात उनके पार्थिव शरीर को सैना के अधिकारी व जवान लेकर यहां पहुंचे तो शहीद के परिजनों के साथ ही पूरे गांव में शोक छा गया। उनके पैतृक घाट पहुंचकर सैकड़ों लोगों ने नम आंखों से शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी।

आज बुधवार को प्रात:काल से ही परिजनों के साथ ही अन्य नाते-रिश्तेदारों, प्रशासनिक अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों के साथ ही सेना के अधिकारियों, जवानों ने उनके अंतिम दर्शन करने के साथ ही शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद शहीद की अंतिम यात्रा शुरू हुई और दोपहर को पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनके पैतृक घाट नंदप्रयाग में अंतिम संस्कार कर दिया गया। यहां पर शहीद के बडे भाई सुलभ सिंह नेगी ने शहीद की चिता को मुखाग्नि दी। सुरेंद्र सिंह नेगी की पारिवारिक पृष्ठभूमि सेना की ही रही हैं उनके पिता गोविंद सिंह भी सेना से रिटायर हैं और उनके दो अन्य भाई भी सेना में ही हैं। शहीद अपने पीछे  पत्नी अंजू देवी एवं दो पुत्र 10 वर्षीय आदर्श व 8 वर्षीय उत्कर्ष को रोता बिलखता छोड़ गये हैं।
इस मौके पर बद्रीनाथ के विधायक महेंद्र भट्ट, कर्णप्रयाग के विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी, जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया, मुख्य विकास अधिकारी हंसा दत्त पांडे, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ले. कर्नल बीएस रावत, कैप्टन विवेक पांडे, एसडीएम बुशरा अंसारी, वैभव गुप्ता, नंदप्रयाग की नगर पंचायत अध्यक्ष हिमानी वैष्णव, भाजपा जिला अध्यक्ष रघुवीर बिष्ट, शहीद के पिता गोविंद सिंह नेगी, जिपंस लक्ष्मण सिंह, पूर्व विधायक डॉ. एपी मैखुरी, क्षेपंस लक्ष्मण रावत, प्रधान प्रदीप सिंह, मनोज रावत, सुरेंद्र बिष्ट, दिगपाल बिष्ट, प्रताप कठैत, दर्शन कठैत, कांग्रेस जिला अध्यक्ष बीरेंद्र रावत सहित तमाम क्षेत्र के लोग मौजूद थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here