शिमला: भू-धसाव से कई गाड़ियां मलबे में दबी

  • हिमाचल के कई जिलों में ढहे कच्चे मकान
  • पहाड़ियों से पत्थर गिरने का सिलसिला जारी
  • लाहौल-स्पीति में 60 पर्यटन फंसे

शिमला। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला शहर में मंगलवार रात से मूसलाधार बारिश ने तबाही मचा दी है। शिमला में भूस्खलन और चट्टानें गिरने से कई गाड़ियां मलबे में दब गई है। कई मार्ग बंद हैं। पानी की सप्लाई ठप है। हिमाचल प्रदेश में रेड अलर्ट के कर दिया गया है। शिमला के पंथाघाटी में भारी बारिश से भू-धसाव हो गया है। उधर, लाहौल -स्पीति में भारी बारिश से भूस्खलन और चट्टानें गिरने का सिलसिला जारी है। यहां 60 पर्यटक फंस गए हैं। चंबा जिले में भरमौर-पठानकोट एनएच पर चनेड़ के पास देर रात भारी बारिश से हुए भूस्खलन को हटाने में जुटी जेसीबी का हेल्पर साथ में बह रहे नाले के तेज बहाव में बह गया। एसडीएम नवीन तनवर ने बताया कि सुनील कुमार निवासी सिरकुंड पंचायत गांव कुडगल की तलाश की जा रही है। लाहौल-स्पीति के छह नालों में बाढ़ आई।
पठानकोट-मंडी नेशनल हाईवे पर नूरपुर के पास न्याजपुर में एक कार पर पहाड़ी से चट्टानें आ गिरी। हादसे में चालक को घायल अवस्था में कार की छत तोड़कर निकाला गया। हादसे में कार चालक अवतार सिंह निवासी बडूखर (इंदौरा) की एक टांग फ्रेक्चर हुई है। उसे टांडा मेडिकल कॉलेज में दाखिल किया गया। चंबा में भी 30 जुलाई तक अलर्ट जारी किया गया है। बारिश के बीच शिमला, सिरमौर में दो मकान ढह गए, जबकि सिरमौर के ददाहू में बस स्टैंड के भवन का हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। मंडी के धर्मपुर में भी दो कच्चे मकान और एक गोशाला को नुकसान हुआ है। हिमाचल में बुधवार को भी भारी बारिश का रेड अलर्ट है। चंबा, कांगड़ा, मंडी, कुल्लू और शिमला जिले में बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here