नौ बार ‘पुलिसमैन ऑफ द मंथ’ रहे थानेदार भट्ट को मिलेगा केंद्रीय गृहमंत्री पदक

उधमसिंहनगर। नौ बार ‘पुलिसमैन ऑफ द मंथ’ रहने के साथ ही प्रदेश स्तरीय पुलिस वाद-विवाद प्रतियोगिता में लगातार पांच बार चैंपियन रहे नानकमत्ता के थानेदार कमलेश भट्ट का चयन केंद्रीय गृहमंत्री पदक के लिए हुआ है। 21 अगस्त को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह उन्हें दिल्ली में सम्मानित करेंगे।
कमलेश भट्ट राज्य से एकमात्र ऐसे अफसर हैं जिनका चयन इस पदक के लिए हुआ है। नशे के खिलाफ लगातार अभियान चलाकर क्षेत्र में अपनी कार्यशैली से प्रसिद्ध थानेदार भट्ट 2002 में पुलिस सेवा में कांस्टेबल के रूप में भर्ती हुए थे। वर्ष 2007-08 में हेड कांस्टेबल व 2007-10 में सब इंस्पेक्टर बने। एसआई के रूप में उनकी पहली पोस्टिंग रामनगर में हुई थी। 2013 में पीरूमदारा चौकी इंचार्ज रहते हुए उन्होंने दो लाख की नकदी तथा 900 ग्राम स्मैक के साथ तस्कर को गिरफ्तार किया था। वर्ष 2016 में बाजपुर कोतवाली में एसएसआई की तैनाती के दौरान उन्होंने पुष्पा हत्याकांड का खुलासा किया था। इस केस को खोलने पर उनका नाम पुरस्कार के लिए भेजा गया था। 14 जुलाई 2019 को उन्होंने थानाध्यक्ष नानकमत्ता का पदभार संभाला था। 10 दिन बाद ही उन्होंने बाजपुर के हिस्ट्रीशीटर बदमाश गुरबाज सिंह उर्फ माडू को देवकली ठेरा में मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया था। जिसमें वह घायल भी हो गए थे। इसके बाद कई बार स्मैक तस्कर करे गिरफ्तार कर पूरे जिले में चर्चा पायी।
थानेदार भट्ट ने बताया कि उनका जन्म एक अक्टूबर 1980 को ग्राम भावू तहसील जैंती जिला अल्मोड़ा में हुआ। पिता मधुसूदन भट्ट तथा मां जानकी हैं। एक भाई सोनू भट्ट इंजीनियर तो दूसरा धीरज भट्ट नैनीताल के एसबीआई में शाखा प्रबंधक है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here