उपाध्याय उवाच, उत्तराखंड में सत्ता वापसी की जिम्मेदारी तो हरीश, प्रीतम और इंदिरा की!

हल्द्वानी। प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह और नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश की जिम्मेदारी होगी कि वे आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस की सत्ता में वापसी सुनिश्चित करें। 
पत्रकारों से बातचीत के दौरान उपाध्याय ने कहा कि तीनों ही नेताओं को पार्टी ने बहुत कुछ दिया है। तीनों की जिम्मेदारी है कि उत्तराखंड में पार्टी को सत्ता में लौटाएं। उन्होंने कहा कि पीएम के पद को छोड़कर रावत अन्य कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं। जबकि चकराता में प्रीतम के परिवार के अलावा कांग्रेस ने किसी दूसरे नेता की ओर नहीं देखा। डॉ. हृदयेश को भी कांग्रेस ने पूरा सम्मान दिया। हालांकि प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन के सवाल पर उपाध्याय बहुत ही चतुराई के साथ पचा गए। सिर खुजाते हुए उन्होंने कहा कि यह तो आलाकमान ही तय करेगा।
उन्होंने बताया कि कहा कि बेरोजगारी, महंगाई समेत अन्य मुद्दे को लेकर लोग जनता परेशान है। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बिना दलाली के कोई काम प्रदेश में नहीं हो रहा है। सड़कों के टेंडर में छह प्रतिशत के कमीशन का खेल चल रहा है। 
किशोर उपाध्याय ने कहा कि बिजली, पानी, बजरी और लकड़ी उत्तराखंड के लोगों को निशुल्क मिलनी चाहिए। प्रत्येक नागरिक का इस पर अधिकार है। टिहरी का पानी और बिजली का प्रयोग दिल्ली के लोग कर रहे हैं मगर यहां के लोगों को निशुल्क नहीं दिया जा रहा है। उपाध्याय ने कहा कि आम आदमी पार्टी में जाने का सवाल ही नहीं पैदा होता। राहुल गांधी ने जो जिम्मेदारी दी है उसका वह पालन कर रहे हैं। आम आदमी पार्टी के उत्तराखंड के सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि चुनाव लड़ने के लिए सभी पार्टी स्वतंत्र हैं। कांग्रेस के ऊपर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। कांग्रेस एकजुटता के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी और 50 से अधिक सीटों पर जीत दर्ज करेगी। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता दीपक बल्यूटिया ने कहा कि भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने उत्तराखंड के लिए अभद्र टिप्पणी कर आंदोलन में शहीद एवं बलिदान देने वालों का अपमान किया था। चैंपियन को भाजपा में पुन: शामिल कर भाजपा ने भी शहीद एवं बलिदान देने वालों का अपमान किया है। उत्तराखंड की जनता भाजपा को कभी माफ नहीं करेगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here