Haldwani Violence: बवाल, कर्फ्यू और इंटरनेट ठप, हिंसा में छह की मौत, 300 से अधिक घायल…

हल्द्वानी। बनभूलपुरा में गुरुवार शाम को अतिक्रमण हटाने को लेकर बवाल हो गया। जिसके बाद प्रशासन ने देर शाम उपद्रवियों के पैर में गोली मारने के आदेश जारी किए। इस दौरान छह लोगों की मौत हो गई। प्रशासन ने शहर में कर्फ्यू लगा दिया है। जबकि कई दंगाई घायल हुए हैं।पत्थरबाजी और आगजनी की घटना में पुलिस-प्रशासन और मीडियाकर्मी सहित 300 से अधिक लोग घायल हुए हैं। जिनका अलग-अलग अस्पताल में इलाज चल रहा है।

उपद्रव‍ियों को देखते ही गोली मारने के आदेश…

तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए डीएम वंदना ने रात में ही कर्फ्यू लगाते हुए उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश भी दे दिए हैं। रात में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। चार कंपनी पीएसी समेत जिले भर के थाने व चौकियों का स्टाफ बनभूलपुरा पहुंच गया। उपद्रवी चिन्हित किए जा रहे हैं। वहीं, शुक्रवार को बाजार एवं सभी स्कूलों को बंद रखने के भी निर्देश जारी किए हैं।

अतिक्रमण तोड़ने पहुंची थी टीम…

बता दें कि बनभूलपुरा वही इलाका है जहां पिछले साल रेलवे की भूमि पर बसी 50 हजार की आबादी वाली बस्ती को खाली कराने का हाई कोर्ट ने आदेश दिया था। पुलिस-प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने के लिए पूरी तैयारी भी कर ली थी। इसी बीच मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया और वर्तमान में विचाराधीन है। मुस्लिम बहुल क्षेत्र में बनभूलपुरा के मलिक का बगीचा में पिछले दिनों नगर निगम और प्रशासन की टीम अतिक्रमण के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए पहुंची थी। इस दौरान यहां अवैध मदरसा और नमाज स्थल भी मिला। गुरुवार दोपहर सवा चार बजे करीब पुलिस, प्रशासन और नगर निगम की टीम बुलडोजर लेकर अतिक्रमण तोड़ने पहुंची थी। प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के अलावा पुलिस व निगम कर्मचारी मिलाकर करीब 700 लोगों की फोर्स थी, लेकिन जैसे ही बुलडोजर और टीम आगे बढ़े। चारों तरफ से पथराव शुरू हो गया। देखते ही देखते करीब 10 हजार से अधिक मुस्लिम समुदाय के लोगों की भीड़ जुट गई।सड़क से लेकर घरों की छतों से पत्थर बरसने लगे।

● 3 बजे अवैध रूप से बने अतिक्रमण को हटाने के लिए बनभूलपुरा थाने के पास टीमें जुटने लगी। अतिक्रमण हटाने के लिए टीम पुलिस फोर्स के साथ रवाना हुई।
4: 25 बजे टीम मलिक के बगीचे में पहुंची 4: 40 पर लोगों ने विरोध शुरू किया।
4: 50 पर अराजकतत्वों ने जेसीबी मशीन पर पथराव कर दी और हंगामा शुरू हुआ और स्थानीय लोगों ने गलियों और छतों से पत्थरबाजी शुरू कर दी।
● 5:00 बजे अतिक्रमण तोड़ने की कार्रवाई शुरू की. पत्थरबाजी होती देख पुलिस प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले दागे।
● 5:20 पर उपद्रवियों ने मीडिया कर्मी के वाहनों में आग लगाकर सड़क को बाधित कर दिया।
● 5:50 बजे हालात बेकाबू होने लगे और भारी संख्या में उपद्रवियों ने पुलिस के ऊपर हमला बोल दिया। जिसमें कई पुलिसकर्मी और जिला प्रशासन के लोग घायल हो गए।
● 6: 30 बजे उपद्रवियों ने बनभूलपुरा थाने को आग के हवाले कर दिया।
● 7:30 पर सीएम ने बैठ कर उपद्रवियों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।
● 7:45 जिला प्रशासन ने शहर में कर्फ्यू धारा 144 और कर्फ्यू लगा दिया।
● 8:55 बजे दंगाइयों ने फिर से दंगा शुरू कर दिया। जिसके बाद पुलिस को गोली चलानी पड़ी. इस दौरान कई लोगों को गोली लगी और घायलों को सुशीला तिवारी अस्पताल ले जाया गया। जहां इलाज के दौरान चार दंगाइयों की मौत हो गई।
● जबकि दंगा में करीब पुलिस सहित 300 लोग घायल हुए हैं। पैरामिलिट्री फोर्स की टीम फिलहाल दंगे पर नियंत्रण किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here