सरकारी संपत्ति खुर्द-बुर्द करने में पीसीएस सहित 28 पर मुकदमा, अफसरों में हड़कंप

देहरादून। हरिद्वार के ज्वालापुर क्षेत्र में शत्रु संपत्ति को खुर्द-बुर्द करने का मामला सामने आया है। शिकायत के बाद विजिलेंस तत्कालीन दो पीसीएस सहित 28 लोगों पर मुकदमा दर्ज कर जांच में जुट गई है, इनमें कुल 10 लोकसेवक हैं। एसपी विजिलेंस धीरेंद्र गुंज्याल ने मुकदमे की पुष्टि की है।

दरअसल विजिलेंस प्रकरण को लेकर जांच कर रही थी। जिसमें कई अहम सुराग मिलने के बाद विजिलेंस की टीम ने इस पर मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई को आगे बढ़ाया है। इस मामले में धारा 420, 467, 468, 471, 218 और 120 बी के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। प्रकरण में आरोपियों के खिलाफ साठगांठ कर षड्यंत्र के तहत सरकारी जमीन को खुर्द-बुर्द करने का आरोप है। बताया जा रहा है कि इस मामले में एक रिटायर्ड पीसीएस अधिकारी के साथ मौजूदा PCS अधिकारी भी विजिलेंस की रडार पर हैं।

सरकारी जमीन (शत्रु संपत्ति) को खुर्द बुर्द करने के मामले में 10 लोक सेवकों यानी सरकारी अधिकारियों और कर्मचारी के साथ ही 18 अधिवक्ताओं और भूमाफियाओं के खिलाफ मामला पंजीकृत हुआ है। शासन के आदेश के बाद मुकदमा दर्ज किया गया है। ये पूरा मामला 2016 का हरिद्वार के ज्वालापुर का है। इस घोटाले में खुली जांच में सरकारी जमीन को खुर्द बुर्द करने के लिए षड्यंत्र कर कूटरचित दस्तावेज तैयार किए गए थे। तत्कालीन उपजिलाधिकारी, तत्कालीन लेखपाल, तत्कालीन कानूनगो समेत कई लोगों के नाम FIR में दर्ज किए गए हैं। मुकदमा दर्ज होने के बाद पीसीएस अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है। उन्होंने शासन के सम्मुख आपत्ति जताई है।

इनके खिलाफ मुकदमा…

हरबीर सिंह (तत्कालीन एसडीएम), अनिल कुमार कंबोज (तत्कालीन हल्का लेखपाल), सुखपाल सिंह (तत्कालीन शासकीय अधिवक्ता), नीरज तोमर (तत्कालीन लेखपाल), बिजेंद्र गिरि (तत्कालीन लेखपाल), बिजेंद्र कश्यप (तत्कालीन लेखपाल), श्रवण कुमार (तत्कालीन कानूनगो), एसबी शर्मा (तत्कालीन उपनिबंधक), हरिकृष्ण शुक्ला (तत्कालीन उपनिबंधक), मायाराम वर्मा (तत्कालीन उपनिबंधक), एडवोकेट पहल सिंह वर्मा, एडवोकेट सज्जाद, एडवोकेट मोहन लाल शर्मा, एडवोकेट यशपाल सिंह चौहान, एडवोकेट राजकुमार उपाध्याय, रियाज अहमद, शरीफ अहमद, शोकत उर्फ चीचू, वहीदा, सलीम, जुलेखा, कारी मुस्तफा, कोमल, विनोद मलिक, रेश्मा, प्यारे लाल, सफदर अली, संजीदा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here