ईवीएम के खिलाफ विपक्ष का फिर ‘हल्ला बोल’

विपक्षी पार्टियों की बैठक के बाद प्रेस वार्ता में कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी और टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू ने इस मुद्दे पर की सुप्रीम कोर्ट जाने की घोषणा

‘संविधान बचाओ’ के नारे के तहत आयोजित बैठक के बाद विपक्षी पार्टियों ने लोकसभा चुनाव के बीच ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा एक फिर से उछाला है। आज बैठक के बाद प्रेस वार्ता में कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी और टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम के प्रयोग पर सवाल खड़े किये। इन नेताओं ने कहा कि वे ईवीएम में गड़बड़ी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। बैठक में छह विपक्षी दलों ने ईवीएम के प्रयोग पर सवाल उठाते हुए बैलट पेपर से वोटिंग की वकालत की। उधर, भाजपा ने विपक्ष की इस बैठक को पहले ही हार मान लेने वाला बताया है।
बैठक के बाद नायडू और सिंघवी ने कहा कि हम ईवीएम के इस्तेमाल का मुद्दा लेकर फिर से सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। 
गौरतलब है कि नायडू शनिवार को भी ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत लेकर चुनाव आयोग के पास पहुंचे थे। उनका आरोप था कि आंध्र प्रदेश में पहले चरण की वोटिंग के दौरान चार हजार के करीब ईवीएम में खराबी आई थी। आज उन्होंने कहा कि हम ईवीएम के मुद्दे पर फिर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। दुनियाभर में बहुत कम देश हैं जो ईवीएम का इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर हमें मतदाताओं का विश्वास जीतना है तो बैलेट पेपर का इस्तेमाल करना होगा।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल शामिल हुए। सिंघवी ने कहा कि पहले चरण के चुनाव होने के बाद ईवीएम पर सवाल उठ रहे हैं। हमें नहीं लगता कि आयोग इस पर ध्यान दे रहा है। अगर आप एक पार्टी को वोट देते हैं तो वह दूसरी पार्टी को जाता है। वीवीपैट में भी पर्ची सात सेकंड की जगह केवल तीन सेकंड दिखती है।
उन्होंने दावा किया कि लाखों वोटरों के नाम बिना-जांच पड़ताल किए ऑनलाइन हटा दिए गए। आयोग को कई पार्टियों ने लंबी—लंबी लिस्ट सौंपी है। अब कम से कम 50 फीसदी वीवीपैट ट्रेल का वोटों से मिलान किया जाए। हम इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पर जाएंगे और देशभर में इसके खिलाफ आंदोलन करेंगे।
गौरतलब है कि शनिवार को भी अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ नायडू चुनाव आयोग के पास गये थे और राज्य के करीब 150 पोलिंग स्टेशनों पर पुनर्मतदान की अपील की थी। उनका आरोप था कि इन बूथों पर ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी थी। नायडू ने कहा था कि चुनाव आयोग एक स्वतंत्र संस्था है, लेकिन यह काम मोदी और सरकार के इशारे पर कर रही है।’ ईवीएम में कथित गड़बड़ी पर उन्होंने कहा कि यह बेहद चिंताजनक है और देश के लिए आपदा की तरह है।
उधर महागठबंधन की बैठक पर भाजपा ने तंज कसते हुए कहा कि तथाकथित गठबंधन को हार का डर सता रहा है। भाजपा नेता जीवीएल नरसिम्हा ने कहा कि दिल्ली में जो विपक्षी दलों की बैठक हुई है वह महागठबंधन की हार स्वीकार करने वाली बैठक है। महागठबंधन के पास न तो कई गर्वनेंस का अजेंडा है और न लोगों को बताने के लिए कोई लीडरशिप है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here