31 मार्च, 2016 तक सेवानिवृत्त कार्मिकों की धूमधाम से मनी जन्माष्टमी!

  • सीएम और नगर विकास मंत्री ने उनके बकाया वेतन, पेंशन एवं अन्य देयता के भुगतान के लिये नगर निगम हरिद्वार को 10 करोड़ 9 लाख रुपये का चेक सौंपा

देहरादून। त्रिवेंद्र सरकार ने नगर निगम हरिद्वार से सम्बन्धित 2016 तक सेवानिवृत्त कार्मिकों के बकाया वेतन, पेंशन एवं अन्य देयता के भुगतान के सम्बन्ध में निर्णय लिया है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और नगर विकास मंत्री मदन कौशिक ने आज मंगलवार को नगर निगम हरिद्वार को 10 करोड़ 9 लाख रुपये का चेक प्रदान किया।

गौरतलब है कि चतुर्थ वित्त आयोग की संस्तुतियों पर सरकार द्वारा लिये गये निर्णय के क्रम में वर्तमान वित्त वर्ष-2020-21 में 10 करोड़ 9 लाख 50 हजार की धनराशि को स्वीकृति नगर निगम कार्मिकों के लंबित पेंशन भुगतान के लिये दी गयी है। शहरी विकास विभाग द्वारा एकीकृत वित्तीय प्रबन्धन प्रणाली प्रोर्टल के माध्यम से आनलाईन बिल तैंयार कर उक्त धनराशि को नगर निगम हरिद्वार के पीएलए खाते में हस्तांतरित की जायेगी। उक्त धनराशि से 31 मार्च, 2016 तक सेवानिवृत्त कार्मिकों का बकाया वेतन, पेंशन एवं अन्य देयता का भुगतान किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने निदेशक नगर विकास विनोद सुमन को निर्देश देते हुये कहा कि मृतक आश्रित और पदोन्नति के मामलों का जल्द निस्तारण करें। काफी  दिनों से चल रही लंबित पेंशन भुगतान की जायज मांग को देखते हुए सरकार ने कार्मिकों के हित निर्णय लिया है और कहा गया कि नगर विकास सहित सभी विभागों के कार्मिकों की समस्या को सरकार हल करेगी।
देवभूमि उत्तराखण्ड सफाई कर्मचारी संघ के प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजय सौदा, अध्यक्ष गढ़वाल मण्डल गनन कांगडा, उपाध्यक्ष गढ़वाल मण्डल सत्यप्रकाश, शाखा सचिव हरिद्वार नीरज बागड़ी, शाखा अध्यक्ष हरिद्वार अशोक कुमार एवं सदस्य अभिनव अग्रवाल ने खुशी प्रकट करते हुए आभार व्यक्त किया। उत्तराखंड राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष अमीलाल वाल्मीकि, नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के नेताओं की उपस्थिति में मुख्यमंत्री एवं शहरी विकास मंत्री द्वारा चेक सौंपे जाने पर मोर्चा के श्रमिक नेता सुरेंद्र तेशवर, राजेंद्र श्रमिक, आत्माराम बेनीवाल, सुनील राजोर, परवीन तेशवर, सुलेख चंद, प्रदीप, प्रदीप खैर वाल, अजय कुमार एवं अशोक कुमार चैहान ने आभार प्रकट किया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here