चीनी सप्लायरों ने पांच गुना तक बढ़ाये कोविड से जुड़ी चीजों के दाम!

एक और आफत   

  • सरकारी उड़ानों पर रोक लगाकर चीन ने ब्लॉक की सप्लाई चेन
  • भारत की कौंसिल जनरल ने हांगकांग में जताया विरोध 

नई दिल्ली। इस समय देश में कोविड की दूसरी लहर चल रही है। इससे निपटने के लिए भारत पूरी दुनिया से सामान खरीद रहा है, लेकिन पड़ोसी देश चीन के सप्लायर आपदा में अवसर का लाभ उठा रहे हैं। चीनी सप्लायरों ने कोविड की रोकथाम से जुड़े सामान की कीमतों में कई गुना वृद्धि कर दी है। हॉन्ग कॉन्ग में भारत की कौंसिल जनरल प्रियंका चौहान ने कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर चीन के सामने विरोध जताया है। चीनी अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट से बातचीत में प्रियंका चौहान ने कहा कि भारत को उम्मीद है कि कोविड-19 से लड़ाई में चीन उत्पादों की कीमतों पर नियंत्रण रखेगा।
सप्लाई चेन खुली रहनी चाहिए : प्रियंका चौहान ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि ऐसी स्थिति में सप्लाई चेन खुली रखनी चाहिए और उत्पादों की कीमतें स्थिर बनी रहनी चाहिए।’ उन्होंने कहा कि अभी सप्लाई-डिमांड का थोड़ा दबाव बना हुआ है। ऐसे में उत्पादों की कीमतों में थोड़ी स्थिरता होनी चाहिए। साथ ही सरकारी स्तर पर भी समर्थन और प्रयासों की भावना होनी चाहिए। प्रियंका ने कहा, ‘मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है कि इस मामले में चीनी सरकार कितना प्रभाव डाल सकती है, लेकिन वे ऐसा कर सकते हैं तो यह स्वागतयोग्य है।’
कोविड से जुड़े सामान की कीमतें आसमान पर : चीनी सप्लायर्स ने कोविड से जुड़े सामानों की कीमतें आसमान पर पहुंचा दी हैं। उदाहरण के लिए- 200 डॉलर की औसत कीमत वाले 10 लीटर के ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 1000 डॉलर पर पहुंच गई है। कई सप्लायर 1200 डॉलर में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दे रहे हैं। हाल के दिनों में चीनी सप्लायर्स ने मनमाने ढंग से कॉन्ट्रैक्ट रद्द कर दिए हैं। कई सप्लायर 10 लीटर के कंसंट्रेटर की कीमत लेकर 5 लीटर या 8 लीटर के कंसंट्रेटर दे रहे हैं। 2020 में भी वेंटिलेटर की कीमत 6000 डॉलर से बढ़कर 30 हजार डॉलर पर पहुंच गई थी।
चीन ने ब्लॉक किये सप्लाई कॉरिडोर : चीन सरकार ने सप्लाई कॉरिडोर को ब्लॉक कर दिया है। उदाहरण के लिए- चीन सरकार ने सरकारी एयरलाइंस सिचुआन एयरलाइंस की भारत से उड़ान पर रोक लगा दी है। चीनी सरकार ने सिचुआन एयरलाइंस की भारत के 10 शहरों से उड़ान पर रोक लगाई है।
फार्मा सप्लायर्स ने कॉन्ट्रैक्ट रद्द किए : चीन के फार्मा सप्लायर्स ने अचानक कॉन्ट्रैक्ट रद्द कर दिए हैं। अब चीन के फार्मा सप्लायर रेमडेसिवीर और फेविपिराविर जैसे दवाओं का कच्चा माल नीलामी के जरिए दे रहे हैं। जबकि चीन की रेड क्रॉस सोसायटी अपनी भारतीय यूनिट को दान दे रही है। चीनी दूतावास ने भी सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए कहा है कि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भारत भेजे जा रहे हैं। उधर चीन के अधिकारियों का दावा है कि सप्लाई लाइन खुली है और उत्पादों की कीमतें स्थिर हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here