चारधाम यात्रा : 6 नवंबर को बंद होंगे केदारनाथ के कपाट

देहरादून। हर साल की तरह इस बार भी भैया दूज यानी 6 नवंबर को केदारनाथ धाम के कपाट बंद हो जाएंगे। श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि कल शुक्रवार को विजयादशमी के दिन विधि-विधान से पंचांग गणना के बाद तय की जाएगी। 
उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि शीतकाल के लिए बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि हर साल विजयादशमी के दिन तय की जाती है। कल शुक्रवार को विजयादशमी पर श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि की घोषणा की जाएगी। इसके अलावा पंच पूजाओं का कार्यक्रम, श्री उद्धव जी एवं कुबेर जी के पांडुकेश्वर आगमन और आदि गुरु शंकराचार्य जी की गद्दी के श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ आने का कार्यक्रम भी घोषित होगा। साथ ही आगामी यात्रा काल 2022 के लिए हक-हकूक धारियों को पगड़ी भेंट की जाएगी। इस अवसर पर रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी, देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बीडी सिंह, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, सुनील तिवारी, राजेंद्र चौहान, गिरीश चौहान, कृपाल सनवाल सहित वेदपाठी व आचार्य गण, हक हकूकधारी, तीर्थयात्री और पुलिस-प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहेंगे।
हरीश गौड़ ने बताया कि परंपरा के अनुसार केदारनाथ धाम व यमुनोत्री मंदिर के कपाट भैया दूज को बंद हो जाते हैं। इसलिए इस साल दोनों धाम के कपाट भैया दूज के दिन यानी 6 नवंबर को बंद हो जाएंगे। जबकि हर साल की तरह इस साल भी गंगोत्री मंदिर के कपाट गोवर्धन पूजा या अन्नकूट पर्व पर पांच नवंबर को शीतकाल हेतु बंद हो जाएंगे। इसी तरह द्वितीय केदार मद्महेश्वर व तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट बंद होने की तिथि तथा डोली यात्रा कार्यक्रम और श्री मद्महेश्वर मेला की तिथि भी विजयादशमी के अवसर पर ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में तय होगी।
चतुर्थ केदार रुद्रनाथ मंदिर के कपाट कार्तिक सक्रांति के पावन पर्व पर 17 अक्तूबर को शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे। उसी दिन भगवान रुद्रनाथ की उत्सव डोली पनार बुग्याल और सगर गांव होते हुए शीतकालीन गद्दीस्थल गोपीनाथ मंदिर (गोपेश्वर) में पहुंचेगी। बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के पूर्व अध्यक्ष अनसूया प्रसाद भट्ट और रुद्रनाथ मंदिर के पुजारी धर्मेंद्र तिवारी ने यह जानकारी दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here