उत्तराखंड : हार्ट अटैक से भाजपा नेता के निधन से पिंडर घाटी में शोक की लहर

थराली से हरेंद्र बिष्ट।

चमोली जिले के तेजतर्रार नेता एवं भाजपा के पूर्णकालिक सदस्य पिंडर घाटी वासी सुरेंद्र बिष्ट (सूरी भाई) के आकस्मिक निधन पर पूरी पिंडर घाटी में शोक की लहर दौड़ गई है। उनके निधन का समाचार मिलते ही भाजपाइयों ने शोक सभा आयोजित कर दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की।
देवाल विकास खंड के अंतर्गत बांक गांव निवासी, पीजी कॉलेज गोपेश्वर के पूर्व छात्र संघ उपाध्यक्ष, देवाल के पूर्व ज्येष्ठ प्रमुख, वर्तमान में चमोली जिला सहकारी बैंक गोपेश्वर के संचालक एवं भाजपा के वरिष्ठ भाजपा नेताओं में शुमार सुरेंद्र सिंह बिष्ट उर्फ सूरी भाई का आज बुधवार तड़के करीब ढ़ाई बजे दिल का दौरा पड़ जाने के कारण आकस्मिक निधन हो गया। बताया जा रहा है कि मंगलवार की देर सांय तक वह अपने कस्बाई बाजार लोहाजंग में अपने विद्यालय में जरूरी कामों को निपटाने के बाद वहीं रुक गये थे। देर रात सीने में दर्द की शिकायत होने पर उन्होंने अपने परिजनों को बांक गांव में मोबाइल से सूचना दी थी, लेकिन उनके पहुंचने से पहले ही सूरी भाई अनंत में विलीन हो गये। उनके आकस्मिक निधन की खबर मिलते ही राजनीतिक गलियारों, सामाजिक क्षेत्र के साथ ही शैक्षणिक क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई।
उनके निधन पर देवाल के प्रमुख दर्शन दानू, थराली की प्रमुख कविता नेगी, नारायणबगड़ के प्रमुख यशपाल सिंह नेगी, देवाल के पूर्व प्रमुख डीडी कुनियाल, नंदा देवी, उर्मिला बिष्ट,थराली के राकेश जोशी, सुशील रावत, भाजपा प्रदेश मंत्री बलवीर घुनियाल, देवाल मंडल अध्यक्ष शीतल गड़िया, महामंत्री उमेश मिश्रा, देवाल व्यापार संघ अध्यक्ष केडी मिश्रा, गिरीश मिश्रा, नरेंद्र बिष्ट, नंदी कुनियाल, पुष्कर सिंह बिष्ट, आलम सिंह बिष्ट, युवराज सिंह बसेड़ा, कांग्रेसी ब्लाक अध्यक्ष इंद्र सिंह राणा, महावीर बिष्ट, प्रधान संघ अध्यक्ष राजेन्द्र बिष्ट, जिपंस आशा धपोला, कृष्णा सिंह बिष्ट, ग्वालदम के भाजपा नेता कुंदन परिहार सहित तमाम सामाजिक संगठनों के साथ ही शिक्षा जगत से जुड़े लोगों ने गहरा दुःख व्यक्त किया है। परिजनों के अनुसार उनके पुत्र एवं ज्येष्ठ भ्राता के घर पर न होने के कारण उनका अंतिम संस्कार कल गुरुवार को उनके पैतृक घाट पर किया जाएगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here