भारत के हीरो हैं अभिनंदन

“मेरा नाम विंग कमांडर अभिनंदन है और मेरा सर्विस नं0 27981 है। मैं एक प्लाइंग पायलट हूं। मैं दक्षिण भारतीय हूं। मेरा धर्म हिन्दू है और मैं विवाहित हूं। इससे अधिक जानकारी मैं आपको नहीं दे सकता। यह बातें अभिनंदन पाकिस्तान में पूछताछ के दौरान बिना घबराये और उनकी आंखों में आंखें डालकर कहीं

गौरतलब है कि गत बुधवार को पाकिस्तानी वायुसेना द्वारा जम्मू कश्मीर में भारतीय सेना के प्रतिष्ठानों पर हवाई हमले को भारतीय वायुसेना ने न सिर्फ नाकाम किया बल्कि उनके F-16 लड़ाकू विमानों को वापस उनकी ही धर​ती पर खदेड़ दिया। साथ ही वापस भागते इन विमानों में से एक को भारतीय जांबाजों ने हवा में ही मार गिराया। गौरतलब है कि MIG-21 बाईसन पुराना लड़ाकू विमान है जबकि F-16 उससे कहीं नया और उच्च तकनीक वाला विमान है
इस कार्रवाई के दौरान भारतीय वायुसेना का एक MIG-21 बाईसन विमान क्रैश होकर पाकिस्तान की सीमा के अंदर जा गिरा। इस विमान के जांबाज पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को पाक सेना ने अपनी हिरासत में ले लिया। उसके बाद में पाकिस्तान ने दावा किया कि वो उनके कब्जे में हैं और उनके कुछ फोटो और वीडियो भी जारी किए गए। हालांकि कुछ घंटों बाद ही पाकिस्तान ने उन ​वीडियो को वापस ​ले लिया।
विंग कमांडर अभिनन्दन से जब पाकिस्तानी सेना ने पूछताछ की तब उन्होंने सिर्फ वही जानकारी दी जो एक सैनिक को देनी चाहिए और बाकी सब प्रश्नों का जवाब देने से उन्होंने निडरता से मना कर दिया भारतीय विशेषज्ञों का कहना है कि विंग कमांडर अभिनंदन के वीडियो को पाकिस्तान ने सोशल मीडिया पर प्रचारित करके जिनेवा संधि का उल्लंघन किया है।
किसी भी पकडे हुए सैनिक के साथ किस तरह का व्यवहार होना चाहिए, इसके बारे में 1949 का जिनेवा के अनुसार यह उन सभी मामलों में लागू होता है, चाहे घोषित युद्ध का मामला हो या नहीं। इस तरह पाकिस्तान को विंग कमांडर अभिनंदन को हर हाल में छोड़ना ही होगा।
अभिनंदन का पूरा परिवार जुड़ा रहा है वायुसेना से
विंग कमांडर अभिनंदन का वायुसेना में सफर वर्ष 2004 में फ्लाइंग अफसर पद से शुरू हो है। उनका पूरा परिवार भारतीय वायुसेना से जुड़ा रहा है। उनके पिता भी एयरफोर्स से रिटायर्ड है। उनके भाई और पत्नी भी वायुसेना से रिटायर्ड हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here