ब्रिटेन में कोरोना के नये ‘रूप’ से भारत सहित पूरी दुनिया दहशत में!

कोरोना फिर ढा रहा कहर

  • ब्रिटेन से आने वाली सभी फ्लाइट्स पर कल आधी रात से 31 दिसंबर तक भारत ने लगाई रोक  
  • वायरस के नए स्ट्रेन से हड़कंप; सऊदी ने एक हफ्ते के लिए इंटरनेशनल फ्लाइटें रोकीं, बॉर्डर भी सील
  • तुर्की ने भी ब्रिटेन, डेनमार्क, साउथ अफ्रीका और नीदरलैंड्स से आने वाली उड़ानें रोकीं
  • वैज्ञानिकों का अनुमान, ब्रिटेन में मिला कोरोना वायरस का नया रूप पहले से 70% ज्यादा खतरनाक

नई दिल्ली। ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया वैरिएंट मिलने के बाद बनी स्थिति को देखते हुए भारत सरकार ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइटों पर रोक लगाने का फैसला लिया है। यह प्रतिबंध 22 दिसंबर रात 12 बजे से 31 दिसंबर रात 12 बजे तक रहेगा।
ब्रिटेन में कोरोना वायरस का बदला हुआ रूप पाया गया है। इसे VUI-202012/01 नाम दिया गया है। आशंका है कि यह पहले वाले वायरस से 70% ज्यादा संक्रमण फैलाने वाला है। इससे भारत में भी दहशत का माहौल है। उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है कि ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार इसे लेकर अलर्ट है।
सऊदी अरब सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर एक हफ्ते की रोक लगा दी है। सऊदी ने अपनी सीमाएं भी एक हफ्ते के लिए सील कर दी हैं। सरकार ने कहा है कि जो लोग यूरोपीय देशों से सऊदी आए हैं, उन्हें दो हफ्ते के लिए सेल्फ आइसोलेशन में रहना होगा। वहीं जो लोग बीते तीन महीने में यूरोप या नए कोरोना स्ट्रेन वाले क्षेत्रों से आए हैं, उन्हें कोरोना टेस्ट कराना होगा। इस बीच, तुर्की ने भी ब्रिटेन, डेनमार्क, साउथ अफ्रीका और नीदरलैंड्स से आने वाली फ्लाइट्स पर अस्थाई रोक लगा दी है।
गौरतलब है कि कोरोना वायरस में लगातार म्यूटेशन होता रहता है, यानी इसके गुण बदलते रहते हैं। म्यूटेशन होने से ज्यादातर वेरिएंट खुद ही खत्म हो जाते हैं, लेकिन कभी-कभी यह पहले से कई गुना ज्यादा मजबूत और खतरनाक हो जाता है। यह प्रोसेस इतनी तेजी से होती है कि वैज्ञानिक एक रूप को समझ भी नहीं पाते और दूसरा नया रूप सामने आ जाता है। वैज्ञानिकों को अनुमान है कि कोरोना वायरस को जो नया रूप ब्रिटेन में मिला है, वह पहले से 70% ज्यादा खतरनाक हो सकता है।
ब्रिटेन में कोरोना वायरस में म्यूटेशन की बात सामने आने के बाद कई देशों ने कड़े प्रतिबंध लागू कर दिए हैं। 13 यूरोपीय देशों फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्विट्जरलैंड, पुर्तगाल, बेल्जियम, ऑस्ट्रिया, बुल्गारिया, डेनमार्क, फिनलैंड, रोमानिया, क्रोएशिया और नीदरलैंड्स ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइटों पर प्रतिबंध लगा दिया है।
पिछले साल चीन के वुहान में कोरोना आउटब्रेक के बाथ वहां से लोगों को निकलने की जल्दी थी। इस बार ब्रिटेन में ऐसा हो रहा है। इसके बाद रविवार देर रात को लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट पर डबलिन (आयरलैंड) की फ्लाइट पकड़ने के लिए लोगों की भीड़ लग गई। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन कई देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंध पर आज सोमवार को गवर्नमेंट की कोबरा इमरजेंसी कमेटी के साथ बैठक भी हो रही है।
आधी रात से ट्रैवल बैन लागू करने के कई देशों के ऐलान के बाद लंदन में हीथ्रो के टर्मिनल-5 पर लोगों की भीड़ लग गई। एयर लिंगुस की ब्रिटिश एयरवेज की फ्लाइट के ओवरबुक्ड होने के कारण कई लोग इस फ्लाइट से नहीं जा पाए।
उधर हीथ्रो ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए सभी पैसेंजर्स से फ्लाइट स्टेटस और ट्रैवल एडवाइस चेक करने की अपील की थी। एयरपोर्ट की एक स्टाफ कैटी क्लेन ने द आइरिश टाइम्स से बताया कि सैकड़ों की संख्या में पैसेंजर्स एयरपोर्ट पहुंचे थे और उन्होंने रात 8:55 बजे वाली फ्लाइट नहीं मिलने पर आल्टरनेटिव फ्लाइट भी बुक करने की कोशिश की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here