42 घंटे बाद खुला बदरीनाथ हाईवे फिर हुआ बंद

बारिश का कहर

  • बदरीनाथ हाईवे पर लामबगड़ के बाद अब नया भूस्खलन जोन बना भनेरपाणी
  • यहां करीब दो सौ मीटर के हिस्से में दरक रही चट्टान, हाईवे पर गिर रहे पत्थर  
  • रुद्रप्रयाग में अतिवृष्टि से जल विद्युत परियोजना को हुआ भारी नुकसान

चमोली। रविवार देर रात हुई बारिश से बदरीनाथ हाईवे एक बार फिर भनेरपाणी में बंद हो गया है। इस ठप पड़े मार्ग को रविवार की शाम ही 42 घंटे बार सुचारु किया गया था। यात्री और स्थानीय लोग यहां पैदल आवाजाही कर रहे हैं। वहीं रुद्रप्रयाग के अंतिम गांव गौंडार में कल रात अतिवृष्टि से किलोवाट की लघु जलविद्युत परियोजना को भारी नुकसान हुआ है। पावर हाउस में लगी दोनों टरबाइन को नुकसान पहुंचा है।
गौरतलब है कि बदरीनाथ हाईवे भनेरपाणी में रविवार को शाम करीब पांच बजे यानी करीब 42 घंटे बाद सुचारु हो गया था। हाईवे खुलने पर दोनों ओर फंसे लोगों व वाहनों को उनके गंतव्य को रवाना कर दिया था। इससे पहले शुक्रवार को रात 11 बजे भारी बारिश के दौरान हाईवे अवरुद्ध हो गया था, जिसे 42 घंटे बाद रविवार को शाम को खोला गया था। 
बदरीनाथ हाईवे पर लामबगड़ के बाद अब भनेरपाणी नया भूस्खलन जोन बन गया है। यहां करीब दो सौ मीटर के हिस्से में चट्टान दरक रही है। पहाड़ी से रह-रहकर बोल्डर और मलबा हाईवे पर गिर रहा है। लोगों को दो किमी पैदल आवाजाही करनी पड़ रही है। हाईवे बंद होने से सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को बहुत मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। इनमें जोशीमठ क्षेत्र के लोगों सहित सेना के जवान भी शामिल हैं। वे अपनी जान को जोखिम में डालकर सफर कर रहे हैं।हालांकि जिला प्रशासन की ओर से चट्टान के दोनों ओर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवानों की तैनाती की गई है। ये लोगों को सहारा देकर उनकी आवाजाही में मदद करने में जुटे हैं। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here