थाने के मालखाने से 25 लाख चोरी : यूपी पुलिस ने सफाई कर्मी को पीट पीटकर मार डाला!

हिरासत में हैवानियत

  • पुलिस की पिटाई से मरे युवक की मां बोलीं- पुलिस वालों ने पूरे परिवार को उठाया और की पिटाई
  • मृतक की पत्नी सोनम को भी पीटा, पुलिस वालों के खोल रहा था नाम, इसलिए मार दिया
  • पुलिस का वही रटा रटाया जवाब, ‘पूछताछ’ करने के  बिगड़ी तबीयत बिगड़ गई और मर गया 

आगरा। यूपी पुलिस के कारनामों की फेहरिस्त काफी लंबी होती जा रही है। अब जिले के थाना जगदीशपुरा के मालखाने से 25 लाख की चोरी के मामले में हिरासत में लिए गए युवक को पीट पीटकर मौत के घाट उतार दिया गया। पुलिस उससे 25 लाख रुपये की चोरी की रकम की बरामदगी के ‘पूछताछ’ कर रही थी। ‘पूछताछ’ में सफाईकर्मी की तबीयत ‘बिगड़ने’ पर पुलिस अस्पताल लेकर पहुंची, जहां उसे मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद से पुलिस विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। अब बवाल की आशंका के मद्देनजर थाने पर फोर्स तैनात कर दी गई है।
थाने के मालखाने में चोरी के मामले में हिरासत में हुई अरुण की मौत के बाद परिजन खुलकर पुलिस के खिलाफ सामने आ गए हैं। उनका कहना है कि अरुण को पूछताछ के बाद पुलिस रात को 3:30 बजे घर बेहोशी की हालत में लेकर आई थी। इसके बाद उसे अस्पताल ले गए, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। मृतक के भाई सोनू ने पुलिस प्रशासन से दो करोड़ रुपये और मृतक आश्रित को नौकरी देने की मांग की है। घटना के बाद से आगरा के साथ ही अन्य जिले के अधिकारी भी वाल्मीकि समाज के पदाधिकारियों और अन्य लोगों से मिन्‍नतें कर दोषी पुलिस वालों की जान बचाने में जुटे हैं। 

थाना जगदीशपुरा के मालखाने से 25 लाख रुपये की चोरी के मामले में हिरासत में लिए गए अरुण की मौत के बाद एडीजी आगरा जोन राजीव कृष्ण ने बताया कि पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है। इनमें एक निरीक्षक आनंद शाही और थाना जगदीशपुरा का चार्ज संभाल रहे एसएसआई शामिल हैं। उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई करते हुए विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं। हत्या का मुकदमा पहले ही अज्ञात पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज किया जा चुका है।
एसएसपी मुनिराज ने बताया कि थाना के मालखाना में नकबजनी हुई थी जिसमें 25 लाख रुपये चोरी हुए थे। मंगलवार को पुलिस ने अरुण को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। उसने घटना को कबूला था। 15 लाख रुपया घर से रिकवरी किया था। इसी दौरान उसकी घर में तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद पुलिस और अरुण के परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने एफआईआर का प्रार्थना पत्र दिया था। जिसके आधार पर अज्ञात पर मुकदमा दर्ज किया गया है।
तीन चिकित्सकों की टीम ने मृतक अरुण का पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी कराई गई है। एसएसपी और डीएम को चिकित्सकों द्वारा किए गए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट सौंपी जाएगी। थाना जगदीशपुरा में चोरी के मामले में पकड़े गए अरुण कुमार की हिरासत में मौत के मामले के बाद परिवार में कोहराम मचा हुआ है। मां कमला देवी का कहना है कि पुलिस वालों ने चोरी का आरोप लगाते हुए पूरे परिवार को उठा लिया और उनकी पिटाई लगाई। अरुण कुछ पुलिस वालों के नाम बता रहा था। नाम उजागर न हो जाएं, इसलिए उसे मार दिया। मुझे इंसाफ चाहिए जिसने उसे मारा है उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।
मृतक की पत्नी सोनम ने भी कहा है कि पुलिस ने उसको भी जमकर पीटा है। उनसे पैसा लाने को दबाव बना रहे थे। महिला पुलिस कर्मियों के साथ पुरुष पुलिस कर्मियों ने भी उसकी पिटाई की।

उधर, पुलिस हिरासत में मरे युवक अरुण के परिजनों से मिलने आगरा जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के काफिले को आगरा एक्सप्रेस वे के एंट्री पॉइंट पर रोक लिया गया। प्रियंका आगरा जाने के लिए अड़ी हैं।
इस पर जानकारी देते हुए प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया कि अरुण वाल्मीकि की मृत्यु पुलिस हिरासत में हुई। उनका परिवार न्याय मांग रहा है। मैं परिवार से मिलने जाना चाहती हूं। उत्तर प्रदेश सरकार को डर किस बात का है? क्यों मुझे रोका जा रहा है। आज भगवान वाल्मीकि जयंती है, पीएम ने महात्मा बुद्ध पर बड़ी बातें की, लेकिन उनके संदेशों पर हमला कर रहे हैं।
उन्होंने पूछा कि क्या आगरा में पुलिस हिरासत में मारे गए अरुण वाल्मीकि के लिए न्याय मांगना अपराध है? भाजपा सरकार की पुलिस मुझे आगरा जाने से क्यों रोक रही है। क्यों हर बार न्याय की आवाज को दबाने की कोशिश की जाती है? मैं पीछे नहीं हटूंगी। इसके पहले प्रियंका ने कहा था कि किसी को पुलिस कस्टडी में पीट-पीटकर मार देना कहां का न्याय है? आगरा पुलिस कस्टडी में अरुण वाल्मीकि की मौत की घटना निंदनीय है। भगवान वाल्मीकि जयंती के दिन उप्र सरकार ने उनके संदेशों के खिलाफ काम किया है। उच्चस्तरीय जांच व पुलिस वालों पर कार्रवाई हो व पीड़ित परिवार को मुआवजा मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here