होनहार बिरवान के होत चिकने पात

  • आजकल सड़कों पर फर्राटे मारकर दौड़ रही कन्हैया की यह इलेक्ट्रिकल कार लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी
  • इलेक्ट्रिक रोबोट, हाइड्रोलिक जेसीबी, इलेक्ट्रिक रिमोट कंट्रोल कार व इलेक्ट्रिक साइकिल भी बनाई

हरिद्वार। होनहारों की प्रतिभा कभी संसाधनों और स्थान की मोहताज नहीं होती। यह बात भूपतवाला में अपने नाना के घर रह रहे 13 साल के मेधावी छात्र कन्हैया प्रजापति ने अपने सीमित संसाधनों से बैटरी चालित कार बनाकर साबित कर दी है।
आजकल सड़कों पर फर्राटे मारकर दौड़ रही उसकी यह कार लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। उल्लेखनीय है कि कन्हैया ने इस कार को बनाने में किसी का मार्गदर्शन नहीं लिया। केवल अपनी प्रतिभा से यह काम किया। हालांकि इसके लिये यू ट्यूब की मदद ली।
कक्षा आठ के छात्र कन्हैया के अनुसार दिनभर स्कूल में पढ़ने के बाद जब भी उसे समय मिलता है तो वह कोई नया अनुसंधान करने का प्रयास करते रहते हैं। समय बचाकर उन्होंने इलेक्ट्रिक रोबोट, हाइड्रोलिक जेसीबी, इलेक्ट्रिक रिमोट कंट्रोल कार तथा इलेक्ट्रिक साइकिल भी बनाई है। अब उन्होंने  कड़ी मेहनत के बाद इलेक्ट्रॉनिक कार बनाई है। बताया कि यह कार बैटरी से चलती है, जिसकी लंबाई लगभग 5 फीट 5 इंच और चौड़ाई लगभग 2 फीट 5 इंच व ऊंचाई 4 फीट 6 इंच है। इसमें एलईडी लाइट, इंडीकेटर, हॉर्न, शीशा तो लगा ही है। सामान्य कारों की तरह ही यह चाबी से ही ऑन और ऑफ होती है। रिवर्स और फॉरवर्ड की तमाम सुविधा हैं। कन्हैया के अनुसार कार में 230 वाट की चार बैटरी लगाई गई हैं। गाड़ी की बॉडी का डिजाइन प्लाइवुड से किया गया है।
कन्हैया ने बताया कि उन्होंने यह सारी सामग्री अपनी पॉकेट मनी बचाने के साथ ही अपने नाना रोशनलाल प्रजापति और मामा दीपक प्रजापति के उपलब्ध कराए गए पैसों से जुटाई है। वह एक वैज्ञानिक बनकर देश की सेवा करना चाहते हैं। कन्हैया ने जब अपनी कार को सड़क पर उतारकर उसका डेमो किया तो सभी देखते रह गए। उनके नाना रोशनलाल, मामा दीपक कुमार, क्षेत्र के समाजसेवी मनोज निषाद आदि ने कहा कि बच्चे की प्रतिभा पर उन्हें नाज है। वे उसे आगे बढ़ने के लिए हरसंभव सहयोग प्रदान करेंगे। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here